अर्नव गोस्वामी सक्सेस स्टोरी :- Arnab goswami biography in hindi

आज के तौर में मीडिया किसी भी देश का एक मुख्य स्तम्भ माना जाता है। यह ना केवल खबरों एवं सूचनाओं का तेज़ी से प्रसार करता है, बल्कि जगत में हो रही नित नई क्रियायों से भी, हमे अवगत कराता है। इस कार्य मे समाचार चैनल, एक मुख्य किरदार निभाते है। अगर वर्तमान समय मे भारत देश के News Channels की हम बात कर रहे हो, और एक नाम सबके सामने ना आये, तो यह बात अधूरी सी लगती हैं। वह नाम Republic Media Network, के Chief Editor अर्नव गोस्वामी है, जो हमेशा ही अपने विशेष अंदाज़ से खबरों को प्रस्तुत करने के लिये जाने जाते है। एक नायाब News Anchor होने के साथ साथ इनका विवादों से दामन बंधा ही रहा है। तो Finders चलिये आज के इस Article में हम उनके शुरुआती जीवन से लेकर उनके अभी तक के सफर को विस्तार से जानते हैं।

अर्नव गोस्वामी Biography in hindi

वर्तमान समय मे अर्नव की गिनती भारत के सबसे बेहतरीन News Anchors में होती है। यह एक भारतीय न्यूज़ एंकर है, जो मुख्य तौर पर अंग्रेजी भाषा मे “Republic TV” एवं हिंदी भाषा में “रिपब्लिक भारत” समाचार चैनल को संचालित करते है। इससे पहले भी 2006 से 2016 के मध्य, यह Times Now एवं ET Now के Chief Editor एवं News Anchor रह चुके है। इन सब के अतिरिक्त इन्होंने NDTV एवं The Telegraph के लिये भी सराहनीय कार्य किये है।

अर्नव गोस्वामी शुरुआती जीवन

अर्नव का जन्म 7 March 1973 को असम के गुवाहाटी में हुआ था। इनके पिताजी Manoranjan Goswami है, जो भारतीय सेना से Colonel पद पर रहकर Retired हो चुके है। इनके पिताजी को अपने बेहतरीन लेखन के लिये 2017 में Asam Sahitya Sabha Award से भी सम्मानित किया गया था। इनकी माता का नाम Suprabha Gain-Goswami है, जो भी पेशे से एक लेखक है। चूंकि अर्नव के पिताजी सेना में थे, जिसके चलते इनकी शुरुआती शिक्षा अनेको स्कूलों में हुई। उन्होंने अपनी दसवीं की परीक्षा Delhi Cantonment के St Mary School से पूरी की, जबकि इन्होंने अपनी बारहवीं Jabalpur Cantonment के Kendriya Vidyalaya से पूर्ण करी। अपने बचपन के दिनों से ही घर मे समाज के प्रति अपने माता पिता का रुझान देखकर, उन्होंने भी अपने कैरियर के लिए इसी क्षेत्र को चुना। इन्होंने अपनी Bachelor Degree दिल्ली के Hindu College से नागरिक शास्त्र विषय मे प्राप्त करी। समाज और मानव जीवन को बारीकी एवं विस्तार से जानने के लिये, इन्होंने अपनी Master Degree,  Oxford University के St. Antony College से Social Anthropology विषय मे 1994 में हासिल की।

कैरियर :-

अपनी शिक्षा पूर्ण करने के उपरांत उन्होंने पत्रकारिता को अपने जीवन निर्वहन का स्त्रोत बनाया। सबसे पहले उन्होंने कोलकाता में The Telegraph के लिये एक पत्रकार के तौर पर कार्य किया। जिसके कुछ समय बाद ही वह दिल्ली चले गये। जहाँ उन्होंने NDTV को Join कर लिया। उनका यहाँ सफर 1996 से 2006 तक चला। NDTV पर अर्नव के दैनिक समाचार प्रोग्राम लोगों को काफी प्रभावित करने लगे थे, इसी के फलस्वरूप उनके Newsnight प्रोग्राम के लिये उन्हें 2004 में Best News Anchor of Asia के सम्मान से नवाजा गया। इसके उपरांत इन्होंने 2006 में NDTV को छोड़कर, उस दौरान नये लॉन्च हुये समाचार चैनल, Times Now को Chief Editor के तौर पर Join किया। इस चैनल पर उन्होंने Newshour एवं Frankly Speaking with Arnab जैसे प्रोग्राम किये। जिसमे उन्होंने परवेज मुशर्रफ,  Hillary Clinton, दलाई लामा, बेनज़ीर भुट्टो तथा Gordon Brown जैसे वैश्विक नेताओं से बातचीत करके, उनसे सवाल जवाब किये। उनके उन प्रोग्रामों ने अर्नव को दुनियाभर से रूबरू करवा दिया, जिसके परिणामस्वरूप अर्नव की प्रसिद्ध में एकाएक बढ़ोतरी हुई।

1 November 2016 में कुछ विवादों के चलते अर्नव ने Times Now के Chief Editor पद से इस्तीफा दे दिया। इन विवादों में Newsroom Politics एवं उनके विचारों को प्रकट करने की आज़ादी पर रोक, जैसे किस्से शामिल थे। इसी दौरान राजीव चंद्रशेखर ने Republic TV की स्थापना की, लेकिन अपने राजनीतिक कार्यों के चलते उन्होंने इस ब्रांड को इसके मुख्य निवेशक अनर्थ गोस्वामी, Ramdas Pai एवं Ramakanta Panda को सौंप दिया। 6 May 2017 को Republic TV चैनल लॉन्च किया गया। अर्नव को इसके Managing Director के साथ साथ Chief Editor का पद भी प्रदान किया गया। जिसके बाद से यह चैनल, भारत का लगभग 100 सप्ताह तक सबसे ज्यादा देखे जाने वाला English न्यूज़ चैनल बना रहा। जिसमें गोस्वामी की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

विवादों से अर्नव का नाता हमेशा से ही रहा है। फिर बात चाहे शशि थरूर द्वारा इन पर मानहानि के केस की हो या फिर अप्रैल 2020 के पालघर Mob Lynching केस की हो। जिसके लिए उनके खिलाफ FIR दर्ज करवाई गई है, एवं उन पर अनेको प्रकार के आरोप की लगाये गये है। इन सब के अतिरिक्त जिस विवाद ने सबसे ज्यादा तहलका मचाया है, वह बीते ही कुछ समय का है, जिसके लिये उन्हें जेल तक जाना पड़ा है। यह केस Anvay Naik की आत्महत्या का है। जिन्होंने 2018 में खुदकुशी कर ली थी, जिसका कारण उन्होंने अपने Suicide Note में तीन लोगों से अपने पैसे ना मिलना बताया था। उन तीन लोगों में एक नाम अर्नव का भी था, जिसके कारण 4 November 2020 को उनको गिरफ्तार किया गया था। लेकिन 11 November 2020 को उन्हें सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर Interim Bail पर छोड़ दिया गया है।

Arvind Patel

Follow us on other platforms too. Stay Connected!

Leave a Comment