भारत की सबसे छोटी किताब कौन सी है।

भारत एक ऐसा देश है जहां लोगों में टैलेंट कूट – कूट कर भरा हैं। गाँव से ले कर शहर तक के लोगों ने अपनी काबिलीयत के बल पर विश्व में कामयाबी का परचम फहराया है। ऐसे दौर में जब विश्व के दूसरे हिस्सों के लोगों में अलग अलग क्षेत्र में हैरान करने वाले कारनामे कर के रिकॉर्ड बुक में अपना नाम दर्ज करवाने को ले कर होड़ मची रहती है, भारतीय भी उनसे किसी मामले में पीछे नही हैं।

bharat ki sabse chhoti book ka naam

भारत में भी ऐसे कई लोग हुए हैं जो कि अलग – अलग क्षेत्र में सबसे छोटे, सबसे बड़े या सबसे ऊंचे जैसे चीज़ों को बना कर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाए हैं। इन्हीं में एक अनोखा विश्व रिकॉर्ड भारतीय के नाम है। उत्तराखंड के प्रकाश चन्द्र उपाध्याय एक ऐसे ही व्यक्ति है जिनका नाम इनके हैरतअंगेज कारनामों की वजह से गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है। प्रकाश चन्द्र उपाध्याय ने विश्व की छोटी किताब लिखी है। प्रकाश चन्द्र उपाध्याय ने यह किताब वाटर कलर तथा एक्रेलिक पेंट की मदद से तैयार किया था। यह किताब भारत की भी सबसे छोटी किताब है। इस किताब में 192 पन्ने हैं जिनपर 192 देश के नाम और झंडे छपे हुए हैं।

प्रकाश चंद्र उपाध्याय – भारत की सबसे छोटी किताब के लेखक

  • संक्षिप्त परिचय

25 मई 1973 को उत्तराखंड के नैनिताल में जन्म लेने वाले प्रकाश चंद्र उपाध्याय पेशे से एक Artist हैं। इन्होंने कई अलग अलग कारनामे को अंजाम देते हुए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज करवाया है। उन्होंने इस विशेष कला से अपनी एक खास पहचान बनाई है। विश्व में  192 देशों के नाम और झंडे को समेटे प्रकाश के इस सबसे छोटी सी किताब की लंबाई 4 mm, चौड़ाई 4 mm तथा मोटाई 8 mm ( 4×4×8 ) है।

Read :- भारत की सबसे छोटी नदी कौन सी है।

प्रकाश ने सबसे छोटी किताब का निर्माण 2015 में किया था। इसके साथ ही प्रकाश चन्द्र उपाध्याय के नाम विश्व की सबसे छोटी, हाथ से लिखी धार्मिक किताब भी लिखने का रिकॉर्ड दर्ज है। उनके द्वारा लिखी गयी धार्मिक किताब, हिन्दू धर्म मे विशेष महत्व रखने वाली ग्रँथ का एक हिस्सा है। इस छोटी धार्मिक किताब में हनुमान चालीसा को लिखा गया है। उनके इस किताब का Size 3×3×4 है।

प्रकाश चन्द्र उपाध्याय के नाम इस सबसे छोटी किताब लिखने के अलावा भी 2018 में एक और विश्व रिकॉर्ड दर्ज हुआ था। इस बार इन्होंने विश्व की सबसे छोटी पेंसिल बनाने का कारनामा किया। 2018 के फरवरी में इन्होंने ऐसी पेंसिल बनाई जो कि विश्व की सबसे छोटी पेंसिल है। इस पेंसिल की लंबाई महज़ 5 mm तथा चौड़ाई सिर्फ 0.5 mm है। इस पेंसिल के निर्माण में लकड़ी और H. B Lead का उपयोग किया गया है। इसे एक माचीस की तीली की मदद से तैयार किया गया। इसे बनाने में सिर्फ 3 से 4 दिन का समय लगा था। इसे बनाने के लिए पहले एक तीली में ड्रिल की गई फिर इसमें Lid को सेट कर दिया गया।

Read :- भारत की सबसे गहरी नदी कौन सी है।

इस पेंसिल को तैयार करने के बाद उपाध्याय ने इसे AWRRF ( Assist World Research Foundation ) के पास भेजा। जिसके बाद इस दल के सदस्यों ने इनके दावे को सही पाते हुए विश्व रिकॉर्ड की लिस्ट में शामिल कर दिया। इससे पहले सबसे छोटी पेंसिल का निर्माण North America के एक व्यक्ति के नाम था। उस पेंसिल के लंबाई 17.5 mm थी।

Leave a Reply