अमेरिका की खोज किसने की थी।

हेलो दोस्तों आप सभी लोग विश्व की महान शक्ति अमेरिका को तो जानते ही होंगे लेकिन आप में से बहुत कम लोग यह जानते होंगे कि अमेरिका की खोज किसने की (who discovered America) तो इस प्रश्न का उत्तर जानने के लिए बने रहिए हमारे साथ हमारी इस website पर। हम आपको हमारी आज की इस post के माध्यम से बताएंगे कि अमेरिका की खोज किसने की एवं हम आपको इसी के साथ अमेरिका के बारे में भी बहुत सारी जानकारियां प्रदान करेंगे तो हमारी इस post अमेरिका की खोज किसने की को पूरा पढ़े बिना ना छोड़े।

america ki khoj kisne aur kab ki thi

अमेरिका दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश है। अमेरिका की अर्थव्यवस्था दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। जब इस बात पर प्रश्न उठता है कि दुनिया के विभिन्न देशों की खोज किसने की, तो उनमें सबसे पहले अमेरिका का ही नाम आता है। भारत के समुद्री तट पर पहुँचने वाला यूरोप का प्रथम व्यक्ति और अमेरिका को पश्चिमी देशों से अवगत कराने वाला पहला आदमी, ये दोनों विश्व के इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। इस लेख में हम अमेरिका की खोज किसने की, इस बात पर प्रकाश डालने के साथ-साथ अमेरिका की खोज के इतिहास की कुछ महत्वपूर्ण जानकारियों से भी परिचित होंगे।

अमेरिका की खोज – अमेरिका में हजारों वर्षों से मानव सभ्यताओं का इतिहास रहा है। इसलिए यह प्रश्न ही गलत है कि अमेरिका की खोज किसने की? बल्कि प्रश्न यह है कि यूरोप को अमेरिका से सबसे पहले किसने परिचित कराया था? एक लंबे अरसे से इतिहासकर यह मानते हैं कि इतालवी (Italian ) खोजकर्ता क्रिस्टोफर कोलंबस (Christopher Columbus) ने 12 अक्टूबर, 1492 को सबसे पहले अमेरिका की धरती पर कदम रखा था। कोलंबस और उनका दल, स्पेन के Palos से चलकर, समुद्र में लगभग 10 सप्ताह के सफर के बाद अपने जहाज़ Pinta” से अमेरिका पहुंचे थे। यात्रा शुरू करने से पहले कोलंबस ने कल्पना की थी कि वे ईस्ट इंडीज को खोजने में सफल होंगे। कोलंबस यह कल्पना नहीं कर सके कि उन्होने एक नई दुनिया की खोज की है। कोलंबस ने अमेरिका की अपनी यात्रा के बारे में सोचा था कि यह एशिया के लिए कोई नया मार्ग है। वह यह नहीं समझ सका कि यह एक नया महाद्वीप है। कोलंबस को अमेरिका का स्पेनिश उपनिवेशीकरण करने के लिए जिम्मेदार माना जाता है। इसके बाद विभिन्न यूरोपीय देशों ने इसे उपनिवेश की तरह इस्तेमाल किया।

कैसे पड़ा “अमेरिका” नाम – कोलंबस के बाद फ्लोरेंटाइन व्यापारी और खोजकर्ता Amerigo Vespucci ने अमेरिका की 1499 में और 1502 में कई यात्राएं कीं और इस नये देश के बारे में काफी लिखा था। 1502 और 1504 में प्रकाशित हुए Vespucci की अमेरिका की यात्राओं के बारे में यूरोप में काफी पढ़ा गया। ये Amerigo Vespucci ही थे जिन्होने सबसे पहले यह जाना कि यह एशिया से अलग एक नया महाद्वीप है। अपनी पुस्तक में Vespucci ने सबसे पहले अमेरिका को एक नयी दुनिया के रूप में उल्लेख किया है। 1507 में, मार्टिन वाल्डसेमुलेर नामक एक जर्मन कार्टोग्राफर ने दुनिया के नक्शे का डिज़ाइन तैयार किया जो  Amerigo Vespucci कि यात्राओं पर आधारित था। इसलिए उन्होने इस नये महाद्वीप का नाम Amerigo का Latin रूपान्तरण “America” रख दिया। दुनिया का नक्शा तैयार करने वाले दूसरे कार्टोग्राफर्स ने भी इसी नाम का उपयोग किया और इस महाद्वीप का नाम अमेरिका पड़ गया।

क्या कोलंबस (Columbus) से पहले अमेरिका की खोज हो चुकी थी? 1937 से USA में 10 अक्टूबर एक राष्ट्रीय अवकाश के रूप में मनाया जाता है। इसे “कोलंबस डे” के नाम से जाना जाता है। लेकिन हाल की कुछ नयी खोजों ने यह सिद्ध करने का प्रयत्न किया है कि कोलंबस से पहले दूसरे खोजकर्ता अमेरिका पहुँच चुके थे। हाल ही में प्राप्त हुए 15वीं शताब्दी की शुरुआत के एक पुर्तगाली नक्शे में अमेरिका का वर्णन है जिससे यह संदेह होता है कि शायद कोलंबस से पहले पुर्तगाली यात्री अमेरिका पहुँच चुके थे। China के कुछ इतिहासकार यह मानते हैं कि चीन के लोग अमेरिका पहुँचने वाले सबसे पहले खोजकर्ता थे। हालांकि यह सभी दावे इतिहासकारों के बीच विवाद और चर्चा का विषय बने हुए हैं। लेकिन एक बात स्पष्ट है कि कोलंबस से पहले अमेरिका का दूसरे देशों के साथ संपर्क हो चुका था।

दोस्तों, अभी अभी आपने जाना कि अमेरिका की खोज किसने की थी एवं इसी के साथ-साथ आप ने अमेरिका के बारे में बहुत सारी महत्वपूर्ण जानकारियां भी प्राप्त करी। आपको हमारी यह post कैसी लगी यह आप हमें comment box में comment करके बता सकते हैं एवं इसी के साथ यदि आप ऐसी और कोई सी भी जानकारी जानना चाहते हैं या प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमें comment कर सकते हैं हमें आपको जानकारी देने मैं बहुत खुशी मिलेगी। एवं ऐसे ही बहुत सारे questions का answer जानने के लिए बने रहिए हमारी website पर। धन्यवाद !

Leave a Reply