भारत का सबसे बड़ा लोकसभा चुनाव क्षेत्र कहां पर है।

विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश भारत की सत्ता में देश की जनता की पूर्ण भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए इसे विभिन्न स्तरों पर बांटा गया है। देश का सबसे बड़ा चुनाव आम चुनाव यानी लोकसभा चुनाव होता है। अलग-अलग राज्यों को अलग-अलग लोकसभा क्षेत्रों में बांटा गया है। केंद्र शासित राज्यों को मिला कर भारत में कुल 545 लोकसभा क्षेत्र हैं। इनमें से 543 सीट पर चुनाव होते हैं , जबकि 2 सीट पर Anglo Indian Community से संबन्ध रखने वाले की नियुक्ति भारत के राष्ट्रपति द्वारा की जाती है।

bharat ka sbse bada chunav chetra koun sa hai

देश में मौजूद 545 लोकसभा सीट में से 131 सीट देश के अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजातियों के लिए आरक्षित (Reserved) है। संख्यात्मक रूप से देखें तो 131 में से 84 सीट अनुसूचित जाति तथा 47 सीट अनुसूचित जनजाति के लिए सुरक्षित है। देश में मौजूद सभी लोकसभा सीटों को देखें तो पता चलता है कि जनसंख्या के आधार पर सभी सीट एक दूसरे से अलग अलग है। इन सब में सबसे बड़ा लोकसभा क्षेत्र भारत के सबसे नए राज्य तेलंगाना के अंतर्गत आता है। इस लोकसभा क्षेत्र का नाम मल्काजगिरी ( Malkajgiri ) लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र है।

मल्काजगिरी – भारत का सबसे बड़ा लोकसभा निर्वाचन चुनाव क्षेत्र

  • संक्षिप्त परिचय

मल्काजगिरी लोकसभा क्षेत्र, 2 जून 2014 को  तेलंगाना के आंध्र प्रदेश से अलग हो कर नए राज्य के रूप में स्थापित होने के बाद तेलंगाना के अंतर्गत आ गया था।  2014 में हुए लोकसभा चुनाव के समय गिरे वोट के आधार पर मल्काजगिरी को देश का सबसे बड़ा लोकसभा चुनाव क्षेत्र घोषित किया गया था। 2014 में हुए आम चुनाव में इस लोकसभा क्षेत्र में कुल 31,83,325  लोगों ने अपने मत का उपयोग किया था। इसके साथ ही इसके नाम भारत के सबसे बड़े लोकसभा क्षेत्र बनने का रिकॉर्ड दर्ज हो गया।

मल्काजगिरी लोकसभा क्षेत्र का इतिहास

मल्काजगिरी क्षेत्र तेलंगाना के 17 लोकसभा क्षेत्रों में से एक है। यह लोकसभा क्षेत्र तेलंगाना के अलग राज्य के रूप में आंध्र प्रदेश से अलग होने के पहले ही अस्तित्व में आ गया था। मल्काजगिरी लोकसभा क्षेत्र की स्थापना 2008 में  Delimitation Commission Of India की सिफारिश पर किया गया था। Delimitation Commission Of India को Boundary Commission भी कहा जाता है। इसकी स्थापना 2002 में की गयी थी। भारत सरकार के अंतर्गत आने वाले इस Commission का मुख्य काम विधानसभा क्षेत्र तथा लोकसभा क्षेत्र की सीमाओं का निर्धारण करना है।

2008 में इस लोकसभा क्षेत्र के गठन के बाद यहां पहली बार लोकसभा चुनाव 2009 के आम चुनाव के समय हुआ था। इस सीट से पहली बार लोकसभा चुनाव जीतने वाले नेता Congress Party के Sarvey Sathyanarayana थे। 2014 में आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के बंटवारे के बाद यह लोकसभा क्षेत्र तेलंगाना के आस रहा तथा राज्य तेलंगाना का हिस्सा बनने के बाद 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में मल्काजगिरी क्षेत्र से चुनाव जीतने वाले व्यक्ति मल्ला रेड्डी ( Malla Reddy ) है। चुनाव के समय मल्ला रेड्डी का संबन्ध तेलुगु देशम पार्टी से था लेकिन 2016 में मल्ला रेड्डी तेलंगाना राष्ट्र समिति पार्टी से जुड़ गए।

Leave a Reply