भारत का सबसे बड़ा नदी द्वीप कौन सा है।

भारत में कई नदियां है, जो कि कई मायने में भारत के लिए काफी महत्वपूर्ण है। इन नदियों के बिना शायद भारत की कल्पना भी मुश्किल है। भारत में मौजूद ये नदियाँ कई खूबसूरत झरनों इत्यादि का निर्माण करते हैं , जो कि प्रकृति की सुंदरता बढ़ाने के साथ-साथ आर्थिक आधार पर भी फायदा पहुंचाती है। इन झरनों के अलावा नदिया एक और खूबसूरत चीज़ का निर्माण करती है , जिसे नदी द्वीप ( River Island ) कहा जाता है। भारत के अलग अलग जगहों पर इन्ही नदियों द्वारा निर्मित कुछ नदी द्वीप मौजूद हैं। भारत में मौजूद नदी द्वीप में सबसे बड़ा नदी द्वीप असम राज्य में मौजूद है।

bharat ka sabse bada nadi dweep koun sa hai

क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत के राज्यों में 17 वां तथा 2011 की जनगणना के हिसाब से 15 वें स्थान पर मौजूद असम की बनावट ऐसी है , कि यह कई दूसरे राज्यों से घिरा हुआ हैं तथा इसकी सीमाऐ बांग्लादेश तथा भूटान को भी छूती है। असम प्रकृति रूप से भी समृद्ध राज्य है। पूर्वी हिमालय के दक्षिण दिशा में मौजूद असम से होकर भारत की सबसे लंबी नदी माने जाने वाली ब्रह्मपुत्र नदी भी गुज़रती है। असम इस नदी के भी दक्षिण छोड़ पर ही मौजूद है। ब्रह्मपुत्र नदी ही असम के माजुली ( Majuli ) नाम के  जगह पर एक खूबसूरत नदी द्वीप का भी निर्माण करता है। यह नदी द्वीप भारत का सबसे बड़ा नदी द्वीप भी है।

माजुली नदी द्वीप – भारत का सबसे बड़ा नदी द्वीप

  • संक्षिप्त परिचय

माजुली ब्रह्मपुत्र नदी में एक नदी द्वीप है। माजुली भारत में मौजूद एकमात्र ऐसा नदी द्वीप है , जिसे ज़िले ( District ) का दर्जा प्राप्त हो। 8 सितंबर 2016 में इसे असम का एक ज़िला घोषित कर दिया गया। इसके साथ ही यह भारत का पहला द्वीप बन गया , जिसे ज़िला घोषित किया गया है। शुरुआती दौर में इस नदी द्वीप का कुल क्षेत्रफल 880 स्क्वायर किलोमीटर था। यह समय के साथ घटता चला गया। 2014 के आंकड़े के अनुसार इस द्वीप का क्षेत्रफल अब सिर्फ 352 स्क्वायर ही रह गया है।

क्षेत्रफल की दृष्टि से सिकुड़ कर के छोटे होने के बावजूद यह नदी द्वीप आज भी भारत का सबसे बड़ा नदी द्वीप है। इसके साथ ही माजुली नदी द्वीप भारत ही नही बल्कि दुनिया का भी सबसे बड़ा नदी द्वीप है। दुनिया के सबसे बड़े नदी द्वीप के रूप में इस जगह का नाम Guinness Book Of World Record में दर्ज है। 2011 कि जनगणना के हिसाब से माजुली की कुल जनसंख्या 1,67,304 थी।

आबादी के लिहाज से इतनी कम संख्या होने के बावजूद इस द्वीप पर अलग-अलग जाति समूह के लोग रहते हैं। इस छोटे से जगह पर कुल 7 समूह रहते हैं।  इस द्वीप के निर्माण में दक्षिण में मुख्यतः ब्रह्मपुत्र नदी तथा Kherkutia Xuti नदी शामिल है। आगे जा कर यह उत्तर में Subansiri नदी से मिलती है। असम के इस नदी द्वीप ज़िले से अन्य प्रमुख शहरों के दूरी की बात करें तो इसकी दूरी गुवाहाटी से लगभग  300 से 400 किलोमीटर है।

माजुली की आर्थिक स्तिथि

माजुली के आर्थिक स्तिथि की बात करें तो यहां सबसे अधिक खेती धान की जाती है। प्रकृति रूप से यहां की मिट्टी इतनी उपजाऊ है कि बिना कीटनाशक तथा खाद के उपयोग के बिना ही लगभग 100 अलग-अलग Variety के धान यहां उगाए जाते हैं।  खेती के अलावा यहां मछली पकड़ने का भी काम किया जाता है।

Leave a Reply