भारत के दक्षिण – पश्चिम में कौन सा सागर है।

भारत पश्चिम, पूर्व तथा उत्तर से देशों से घिरा हुआ है, तथा एक ओर सिर्फ पानी ही पानी यानी समुन्द्र है। भारत में खासकर दक्षिणी छोर पर समुन्द्र हैं। इन समुन्द्रों के कारण भारत अपनी जलीय सीमाऐ भी कुछ देशों के साथ साझा करती है। उसमें सबसे प्रमुख श्रीलंका है। भारत के दक्षिणी राज्य तमिलनाडु से लगे समुन्द्रों के बाद ही श्रीलंका आता है। इन दोनों के बीच की दूरी समुन्द्र के रास्ते काफी कम है।

 

भारत में मौजूद समुन्द्रों में बात करें भारत के दक्षिण – पश्चिम छोर पर मौजूद सागर की तो यह सागर, अरब सागर है। अरब सागर भारत के हिन्द महासागर से ही मिलती है। यह हिन्द महासागर के उत्तरी छोर पर मौजूद है। अरब सागर उत्तर की ओर पाकिस्तान तथा ईरान से भी घिरा हुआ है। इसके अलावा पश्चिम में अरब सागर कई अन्य समुन्द्रों से भी घिरा हुआ है।

अरब सागर – भारत के दक्षिण पश्चिम दिशा में स्थित सागर

हिन्द महासागर के हिस्से अरब सागर का कुल क्षेत्रफल 38,62,000 स्कॉयर किलोमीटर है। इस सागर की अधिकतम चौड़ाई 2400 किलोमीटर है। अरब सागर के गहराई की बात करें तो इसकी गहराई अलग-अलग जगह पर थोड़ी ऊपर-नीचे है, लेकिन इसके अधिकतम गहराई की बात करें तो इसकी अधिकतम गहराई 4652 मीटर है।

अरब सागर में कई Island है। इसके प्रमुख Island की बात करें तो इसमें पाकिस्तान का Astola Island, भारत के कर्नाटक राज्य में स्थित Basavaraja Durga Island तथा भारत के 7 केंद्र शासित राज्यों में से एक लक्षद्वीप भी, अरब सागर का ही एक Island है। लक्षद्वीप का कुल क्षेत्रफल 32 स्क्वायर किलोमीटर है तथा इसकी आबादी 2018 के आंकड़ो के अनुसार 78,568 थी। इसके अलावा गुजरात के अंतर्गत आने वाला Piram Island, Pirotan Island तथा यमन के अंतर्गत आने वाला Socotra Island अरब सागर के अंतर्गत आते हैं।

अरब सागर का व्यापारिक उपयोग

अरब सागर व्यापार के नज़रिए से बहुत ही महत्व रखता है। इसका उपयोग जलमार्ग के रूप में बड़े स्तर पर किया जाता है। सबसे पहले जलमार्ग के रूप में इसके शुरुआत के सबूत दूसरे या तीसरे सदी ईसा पूर्व के आसपास का ही मिलता है। समय के बदलने के साथ-साथ इसका उपयोग भी तेजी से बढ़ा। मौजूदा समय में अरब सागर से कई देशों के महत्वपूर्ण बंदरगाह जुड़े हुए हैं। अरब सागर से भारत, पाकिस्तान, ईरान, ओमान तथा यमन तक के बंदरगाह जुड़े हुए हैं तथा इन देशों के व्यापारिक कार्य संपन्न होते हैं।

अरब सागर के अन्य नाम

अलग-अलग समय में अरब सागर को अलग-अलग नाम इसके क्षेत्र के आधार पर दिए गए। शुरुआती में कई मुस्लिम तथा यूरोपीय Geographers तथा यात्रियों द्वारा अलग-अलग नाम दिए गए। अरब सागर के कुछ प्रमुख दूसरे नामों को देखे तो इसे भारतीय समुन्द्र ( Indian Sea ), Parsian Sea, सिंधु सागर, Arabbi Samudra, Erythrean Sea, सिंध सागर तथा Akhzar Sea के नाम से जाना जाता था।

समय के साथ अरब सागर के अधिकतर अन्य नाम गायब होते गए हैं। आधिकारिक रूप से भी इस सागर को केवल अरब सागर के ही नाम से जाना जाता है।

One Response

  1. Kailash Chandra Regar January 12, 2019

Leave a Reply