भारत का दक्षिणी छोर क्या कहलाता है।

भारत का दक्षिणी छोर प्राकृतिक संसाधनों के मामले में काफी धनी है। भारत के बड़े बड़े समुद्र खास कर इसी ओर हैं। दक्षिणकी ओर ही हिन्द महासागर भी मौजूद है। समुन्द्रों से घिरे होने के कारण इन इलाकों में कई Island भी मौजूद है। भारत के प्रमुख Island में लक्षद्वीप, अंडमान निकोबार द्वीप समूह इत्यादि का नाम आता हैं। आंकड़ों में देखें तो भारत के सभी तरह के Island को मिला कर इनकी संख्या 1208 है।

bharat ka dkshni chhor kya kahlata hai

यहां Island का ज़िक्र इसलिए किया गया है क्यों कि इस प्रश्न का जवाब इन्हीं Island में से एक से जुड़ा हुआ है। भारत के 7 केंद्रशासित राज्यों में से एक राज्य अंडमान निकोबार द्वीप समूह भी है। अंडमान निकोबार कई अलग अलग द्वीपो का समूह है। भारत के सबसे दक्षिणी छोर की बात करें तो यह स्थान इसी अंडमान निकोबार द्वीप समूह में पड़ता है। भारत का सबसे दक्षिणी छोर अंडमान निकोबार द्वीप के निकोबार ज़िले के Great Nicobar Island में पड़ता है। इस स्थान का नाम इंद्रा पॉइंट ( Indra Point ) है।

इंद्रा पॉइंट – भारत का सबसे दक्षिणी छोर

इंद्रा पॉइंट भारत के केंद्रशासित प्रदेश ( Union Territory ) में मौजूद एक गाँव है। यह गांव अंडमान निकोबार के निकोबार ज़िले में पड़ता है। इंद्रा पॉइंट के तहसील की बात करें तो यह Great Nicobar तहसील के अंतर्गत आता है। इंद्रा पॉइंट के बाद कोई भी भारतीय इलाका नही है बल्कि यहां से फिर  समुन्द्र शुरू होता है। इंद्रा पॉइंट के दक्षिण में मौजूद सबसे करीबी किसी अन्य Island की बात करें तो इसके दक्षिण में इंडोनेशिया का एक Island, Rondo Island मौजूद है जो कि 163 किलोमीटर की दूरी पर है।

पहले भारत का यह दक्षिणी छोर किसी अन्य नाम से जाना जाता था। इस स्थान पर एक बार भारत की भूतपूर्व प्रधानमंत्री इंद्रा गांधी का दौरा हुआ। इसी के बाद से इस जगह का नाम बदल कर इंद्रा गांधी के सम्मान में, इंद्रा पॉइंट कर दिया गया। इस स्थान पर इंद्रा गांधी का दौरा 19 फरवरी 1984 को हुआ था। इसके बाद यहां के स्थानीय सांसद द्वारा इसका नाम इंद्रा point कर दिया गया। आधिकारिक रूप से 10 अक्टूबर 1985 को इस जगह का नाम Indira Point किया गया। इस स्थान पर इंद्रा गांधी Light House में आई थीं। यहां मौजूद Light House 30 अप्रैल 1972 को बनाया गया था।

इंद्रा पॉइंट पर इंद्रा गांधी के अलावा भी अन्य गणमान्य लोग आ चुके हैं। जिनमें प्रमुख नाम स्वामी विवेकानन्द का भी है। इंद्रा पॉइंट के प्रशासन की बात करें तो यह गाँव लक्ष्मी नगर पंचायत के अन्तर्गत आता है।

इंद्रा पॉइंट प्राकृतिक आपदा का भी सामना कर चुका है। समुद्र के किनारे मौजूद होने के कारण सुनामी से इसे खासा नुक़सान पहुँचा था। 2004 में इस इलाके में जबरदस्त सुनामी आई थी। इस कारण इस इलाके में मौजूद अधिकतर घर बर्बाद हो गए। सुनामी के बाद 2011 में इस इलाके के बाद सर्वेक्षण रिपोर्ट में बताया गया था कि 2011 में इंद्रा पॉइंट में केवल 4 ही घर बचे थे। इंद्रा पॉइंट की आबादी इस लिहाज से काफी कम है। 2011 के आंकड़े के अनुसार यहां की आबादी सिर्फ 27 लोगों की है तथा यहां की साक्षरता दर 85.19 थी।

Leave a Reply