भारत के प्रथम गवर्नर जनरल कौन थे। First Governor Journal Of India

भारत राष्ट्र एक ऐसा देश जिसका historical background हमेशा से इस बात का साक्षी रहा है कि इस देश पर न केवल आक्रांताओं ने आक्रमण किए, अपितु शासन भी किए हैं और इन्ही शासकों की कड़ी मे एक नाम जो भारतीय जनमानस के बीच उभर कर सामने आता है। वो है ब्रिटिश शासन का| लगभग 750 वर्षों तक मुस्लिम शासकों के शासन के बाद भारत मे 1600 ईस्वी मे आई East India कंपनी ने अपने पाँव पसारने शुरू कर दिये थे और धीरे-धीरे ही सही उन्होने भारत के इतने बड़े हिस्से पर कब्जा कर लिया कि भारत मे शासन सत्ता का अधिकार company के निदेशकों से लेकर स्वयं ब्रिटिश हुक्मरानों ने अपने हांथ मे ले लिया, इन्ही तथ्यों के अमूल्य explanation के साथ आज हम बात करेंगे भारत के प्रथम गवर्नर जनरल की परंतु  उससे पूर्व के Fort William Presidency के गवर्नर जनरलों और बाद के ब्रिटिश शासकों द्वारा नियुक्त Viceroy एवं गवर्नर जनरलों की जिनकी पूर्ण जानकारी के बाद ही हम इस तथ्य पर पहुँच सकेंगे कि वाकई भारत का प्रथम गवर्नर जनरल था कौन ?

bharat ke pratham governor jounrnal koun the

Fort William Presidency के अधीन गवर्नर जनरल

प्लासी और बक्सर के युद्ध के बाद भारत के कई भागों पर East India कंपनी का राज था और अपने इसी शासन क्षेत्र के अंतर्गत बतौर मुगल बादशाह के प्रतिनिधि के रूप मे अंग्रेजों ने Fort William Presidency के अंतर्गत प्रथम गवर्नर जनरल वारेन हेस्टिंग्स को बनाया और इसके बाद Regulating Act द्वारा गवर्नर जनरल बनाए जाने लगे। इस काल के गवर्नर जनरलों के नाम कुछ इस प्रकार हैं।

  • वारेन हेस्टिंग्स (1773 से 1785)
  • सर जॉन मैकफर्सन (1785 से 1786)-अस्थायी
  • लॉर्ड कॉर्नवालिस (1786 से 1793)- प्रथम कार्यकाल
  • सर जॉन शोर (1793 से 1798)
  • सर क्लार्क (मार्च 1798 से मई 1798)- अस्थायी
  • लॉर्ड वेलेसली (1798 से 1799)
  • लॉर्ड कॉर्नवालिस (जुलाई 1805 से अक्टूबर 1805) – दूसरा कार्यकाल
  • सर जॉर्ज बार्लो (1805 से 1807) – अस्थायी
  • लॉर्ड मिंटो (1807 से 1813)
  • फ्रांसिस हासटिंग्स (1813 से 1823)
  • जॉन एडम (जनवरी1823 से अगस्त 1823)- अस्थायी
  • लॉर्ड एम्हर्स्ट (1823 से 1828)
  • विलियम बेले (मार्च 1828 से जुलाई 1828)- अस्थायी
  • लॉर्ड विलियम बेंटिक (4 जुलाई 1828 से 1833)

Fort William Presidency से अलग भारत के गवर्नर जनरल

1833 के charter act ने Fort William Presidency के गवर्नर जनरल एवं परिषद को बदलकर भारत का गवर्नर जनरल एवं परिषद बना दी। हालांकि चयन East India कंपनी के निदेशकों के पास था ऐसे मे इस प्रेसीडेंसी से अलग भारत के प्रथम गवर्नर जनरल बनने का श्रेय लॉर्ड विलियम बेंटिक को है और अंततः 1857 के संग्राम के साथ ही East India कंपनी समाप्त हो गयी| 1833 के charter act के तहत भारत के प्रथम गवर्नर जनरल बने लॉर्ड विलियम बेंटिक के अलावा जो अन्य गवर्नर जनरल भारत की स्वतन्त्रता मिलने के पूर्व तक रहे वो कुछ इस प्रकार हैं।

  • लॉर्ड विलियम बेंटिक (1833 से 1835)
  • सर चार्ल्स मैटकाफ (1835 से 1836) – अस्थायी
  • लॉर्ड आकलैंड (1836 से 1842)
  • लॉर्ड एलनबरो (1842 से 1844)
  • विलियम बर्ड (जून 1844 से जुलाई 1844)- अस्थायी
  • सर हेनरी हार्डिंग( 1844 से 1848)
  • लॉर्ड डलहौजी (1848 से 1856)
  • लॉर्ड कैनिंग (1856 से 1858)

सन 1857 के बाद के भारत के Viceroy और गवर्नर जनरल

सन 1857 के संग्राम के बाद और 1858 के charter act लाने के साथ ही भारत के गवर्नर जनरल को Viceroy भी कहा जाने लगा| भारत के Viceroy एवं गवर्नर जनरल दोनों का पदभार संभालने वाले गवर्नर कुछ इस प्रकार हैं।

  • लॉर्ड कैनिंग ( 1858 से 1862)
  • जेम्स ब्रूस (1862 से 1863)
  • राबर्ट नैपियर (नवम्बर 1863 से दिसम्बर 1863)- अस्थायी
  • सर विलियम डैनीसन (1863 से 1864)- अस्थायी
  • सर जॉन लॉरेंस (1864 से 1869)
  • लॉर्ड मेयो (1869 से 1872)
  • सर जॉन स्ट्रेचे (9 फरवरी 1872 से 23 फरवरी 1872)- अस्थायी
  • लॉर्ड नैपियर (फरवरी 1872 से मई 1872)
  • लॉर्ड नॉर्थब्रूक (1872 से 1876)
  • लॉर्ड लिटन (1876 से 1880)
  • लॉर्ड रिपन (1880 से 1884)
  • लॉर्ड डफरिन (1884 से 1888)
  • लॉर्ड लैंसडाउन (1888 से 1894)
  • विक्टर ब्रूस (1894 से 1899)
  • लॉर्ड कर्जन (1899 से 1905)
  • लॉर्ड मिंटो (1905 से 1910)
  • लॉर्ड हार्डिंग (1910 से 1916)
  • लॉर्ड चेम्सफोर्ड (1916 से 1921)
  • लॉर्ड रीडिंग (1921 से 1926)
  • लॉर्ड इर्विन (1926 से 1931)
  • लॉर्ड विलिंगटन (1931 से 1936)
  • लॉर्ड होप (1936 से 1943)
  • लॉर्ड वैवेल (1943 से 1947)
  • लॉर्ड माउंटबैटन ( फरवरी1947 से 15 अगस्त 1947)

अंततः लॉर्ड माउंटबैटन के काल मे भारत के Viceroy एवं गवर्नर जनरल की उपाधि के साथ भारत को आजादी मिली और आजादी के बाद स्वतंत्र भारत के प्रथम गवर्नर जनरल होने का श्रेय मिला और साथ ही  स्वतंत्र भारत के प्रथम भारतीय गवर्नर जनरल बने सी. राजगोपालाचारी|

इस प्रकार सम्पूर्ण तथ्यों के स्पष्टीकरण के बाद ये बात सिद्ध हो गयी कि भारत के प्रथम गवर्नर जनरल होने का श्रेय लॉर्ड विलियम बेंटिक को है।

Read also :-

Leave a Reply