सम्पूर्ण भारत का अक्षांशीय विस्तार कितना है।

सम्पूर्ण भारत का अक्षांशीय विस्तार जानने से पहले एक नज़र भारत के भूगोल पर डालते हैं।

भारत एक विशाल देश है, भारत का क्षेत्रफल 32,87,263 वर्ग किलोमीटर है। इसमें से 90.44% स्थल भाग है, जबकि 9.56% जल भाग है। भारत देश की आकृति लगभग चतुष्कोणीय है, जो कि पृथ्वी के उत्तरी पूर्वी भाग में स्थित है। भारत की भौगोलिक सीमाऐ सात देशों से मिलती है। जिसमें पाकिस्तान, चीन, भूटान, म्यांमार, नेपाल, अफगानिस्तान, बांग्लादेश शामिल है। भारत की सबसे लंबी सीमा रेखा बांग्लादेश के साथ बनती है, जिसकी कुल दूरी 4096.7 km है। भारत विश्व का 7 वां और एशिया का तीसरा सबसे बड़ा देश है, जो विश्व के कुल क्षेत्रफल का 2.4%  है। भारत से बड़ा देश चीन, रूस, कनाडा, संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्राजील, तथा ऑस्ट्रेलिया है। जनसंख्या के हिसाब से भारत चीन के बाद दूसरा सबसे बड़ा देश है, जिसकी जनसंख्या कुल जनसंख्या का 16.7% भाग है।

bharat ka akshansh vistar kitna hai

सम्पूर्ण भारत का अक्षांशीय विस्तार

सम्पूर्ण भारत का अक्षांशीय विस्तार जानने से पहले आपको ग्लोब को समझना होगा। आप लोग ने बचपन में अपने स्कूल में या ऑफिस में ग्लोब को देखा होगा। जिसमें आपने देखा होगा कि उत्तरी ध्रुव से दक्षिण ध्रुव (South pole to north pole) तक एक Horizontally रेखाऐ खींची होती है, इसी रेखा को अक्षांशीय रेखा कहते है, जिसे इंग्लिश में Latitude कहते हैं। इन रेखाओं की कुल संख्या 181 होती हैं। जो कि 90 भूमध्य रेखा (equator) के नीचे और 90 भूमध्य रेखा (equator) के ऊपर होती है, बाकी एक 0° वाले भूमध्य रेखा होते है, जो कुल मिलाकर 181 होते हैं। ये सब रेखाएं एक-एक डिग्री पर होते हैं। उत्तरी 23.5° अक्षांश को कर्क रेखा ( Tropic of cancer) कहते है। जबकि दक्षिणी 23.5° अक्षांश को मकर रेखा (Tropic of Capricorn) कहते हैं। जबकि पश्चिमी गोलार्ध से पूर्वी गोलार्ध ( Eastern hemisphere to western hemisphere) तक खिंचे गए vertically रेखाएं को देशांतर रेखाएं (longitude) कहते है। इसमें एक-एक डिग्री पर कुल 360 रेखाएं होती हैं। ये रेखाएं काल्पनिक रेखाएं होती हैं, जिसका उद्देश्य किसी भी देश की स्थिति, उसका विस्तार, किसी भी स्थान का पता लगाने, समय तथा तिथि निर्धारित करने इत्यादि उद्देश्यों के लिए किया जाता है।

सम्पूर्ण भारत का अक्षांशीय विस्तार

सम्पूर्ण भारत का भूगौलिक दृष्टि से अक्षांशीय विस्तार उत्तरी अक्षांश 8°4’ ( 8 डिग्री 4 मिनट) से लेकर उत्तरी अक्षांश 37°6’ तक है। जो की इंद्रा कोल से होते हुए कन्याकुमारी के कैप कमेरिन तक जाती है। जिसके बीच की कुल दूरी 3214 किलोमीटर है।

जबकि भारत का देशांतरीय (longitude) विस्तार पूर्वी 68°7’ से लेकर पूर्वी 97°25’ तक है। जो कि गुजरात के धुआर मोटा से होते हुए अरुणाचल प्रदेश के किनीतु तक जाता है। इस दोनों के बीच की कुल दूरी 2933 किलोमीटर है।

भारत पूर्ण रूप से विषुवत रेखा से उत्तरी गोलार्ध में स्थित है। भारत का मानक समय (IST) उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद के समीप मिर्ज़ापुर के नैनी से लिया गया है, जो कि पूर्वी देशांतर में 82°30’ पर है। जो ग्रीनविच समय से 5:30 मिनट आगे है।

कर्क रेखा भारत को दो बराबर-बराबर उत्तरी और दक्षिणी भाग में बांटती है। भारत में कर्क रेखा राजस्थान, गुज़रात, मध्यप्रदेश,  झारखंड, छत्तीसगढ़, पश्चिमबंगाल, मिज़ोरम तथा त्रिपुरा से होकर गुज़रती है।

Read also :-

Leave a Reply