भारत का सबसे पूर्वी राज्य कौन सा है।

क्षेत्रफल की दृष्टि से विश्व के 7वें सबसे बड़े देश भारत के पूर्वी छोर पर कुल 5 राज्य हैं। इनमें शामिल राज्य क्रमशः पश्चिमी बंगाल, उड़ीसा, बिहार और झारखण्ड है। भारत के मानचित्र के अनुसार इन सभी राज्यों में सबसे पूर्वी राज्य पश्चिम बंगला है। इसके अलावा सबसे पूर्वी छोड़ पर एक केंद्र शासित राज्य अंडमान और निकोबार द्वीप समूह भी मौजूद है। सबसे पूर्वी राज्य में शामिल राज्यों में सबसे बड़ा शहर, सबसे पूर्वी राज्य पश्चिम बंगाल में ही स्थित कोलकाता शहर है।

bharat ka sabse purvi rajya koun sa hai

पश्चिम बंगाल – भारत का सबसे पूर्वी राज्य

पश्चिम बंगाल ( West Bengal ) भारत के पूर्व में Way of Bengal के किनारे स्थित है। जनसंख्या के हिसाब से यह पूर्वी राज्य भारत का चौथा सबसे अधिक आबादी वाला राज्य है। पश्चिम बंगाल का कुल क्षेत्रफल 88,752 स्क्वायर किलोमीटर है। पश्चिम बंगला के बॉर्डर की की बात करें तो पूर्व में बांग्लादेश, उत्तर में नेपाल और भूटान है। इस राज्य की स्थापना 26 जनवरी 1950 को हुई थी।

भारत के पूर्व में होने के बाद भी इसे “पश्चिम” बंगाल क्यों कहते हैं?

एक आम सवाल है कि पश्चिम बंगाल तो भारत का सबसे पूर्वी राज्य है। फिर भी इसे “पश्चिम” बंगाल क्यों कहते हैं। इसका जवाब यह है कि बंगाल  क्षेत्रफल की दृष्टि से एक बड़ा राज्य था। यह दो भाग पूर्वी बंगाल और पश्चिमी बंगाल में बंटा हुआ था। आज़ादी के समय हुए बंटवारे ने जब देश के टुकड़े किए तो बंगाल का पूर्वी भाग पाकिस्तान के साथ जुड़ गया। और जो पश्चिमी भाग था वह भारत के साथ रहा। पश्चिमी भाग के भारत के साथ जुड़ने के कारण ही इसे पश्चिम बंगाल कहते हैं। पाकिस्तान के साथ जुड़ा पूर्वी बंगाल, पूर्वी पाकिस्तान के नाम से जाना गया। यही पूर्वी पाकिस्तान 1971 में आज़ाद बंगलादेश बना।

बंगाल की राजनीति

पश्चिम बंगाल के भारत के साथ जुड़ने के बाद तक शुरुआती तीन दशक तक इस राज्य पर देश की सबसे पुरानी पार्टी और आज़ादी के समय की सक्रिय पार्टी रही Indian National Congress का कब्ज़ा रहा। शुरुआती तीन दशक के बाद 1977 में बंगाल पर Congress की पकड़ ढीली हुई और पहली बार इस राज्य की सत्ता से कांग्रेस पार्टी दूर रही। उस साल सरकार बनाने में पूर्ण बहुमत के साथ Communist Party Of India ( CPIM ) कामयाब रही।

इसके बाद तो वहां की सत्ता पर पूरी तरह CPIM का ही कब्ज़ा रहा। इसने इतने लंबे समय तक शासन किया कि यह एक विश्व रिकॉर्ड बन गया। किसी लोकत्रांतिक तरीके से चुनी हुई सरकार ने इतने समय तक शासन नही किया था। CPIM का वर्चस्व आखिरकार 2011 में खत्म हुआ जब ( AITC ) ने चुनाव ने जीत दर्ज कर सरकार बनाने में कामयाब हुई थी।

पश्चिम बंगाल के बारे में कुछ तथ्य

  • पश्चिम बंगाल का नाम किसी समय वंगा ( Vanga ) हुआ करता था। इस राज्य पर पुराने समय में अलग अलग राजाओं ने राज किया।
  • अंग्रेज़ी हुकूमत के आने के बाद बंगाल का महत्व, उनकी सत्ता का केंद्र बनने के बाद और भी बढ़ गया था।
  • बंगाल के साथ कूच बेहार नाम के ज़िले को 1 जनवरी 1950 को जोड़ा गया था।

Leave a Reply