भारत के गवर्नर कौन है 2020 Governor of india

Bharat ka governor koun hai भारत के गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक का Governor होता है। रिजर्व बैंक की 1935 में स्थापना होने के बाद, अब तक कुल 25 गवर्नर इस पद को संभाल चुके हैं।

bharat ke governor ka naam kya hai

शक्तिकांत दास ने भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के 25 वें गवर्नर के रूप में 12 दिसम्बर 2018 (Appointed on 11 December 2018) को पदभार संभाल लिया है। वे भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) के 1980 बैच के तमिलनाडु cadre के रिटायर्ड अधिकारी हैं। सरकार ने 63 वर्षीय शक्तिकान्त दास को ऊर्जित पटेल के अकस्मात त्यागपत्र (Resign) देने के बाद RBI के गवर्नर के रूप में Appoint किया है। भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर का कार्यकाल 3 वर्षों का होता है।

RBI के 25वें गवर्नर शक्तिकांत दास एक Career Bureaucrat हैं।

भारत के गवर्नर शक्तिकान्त दास-एक परिचय:

भूतपूर्व आर्थिक मामलों के सचिव रह चुके शक्तिकांत दास ( जन्म 26 फ़रवरी 1957, भुवनेश्वर, ओडिशा) इससे पहले भारत के 15वें वित्त आयोग (15th Finance Commission-Chairman N.K Singh) के सदस्य थे। शक्तिकांत दास नवम्बर 2016 के नोटबंदी(Demonetization) के दौरान मीडिया में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर के सार्वजनिक मुद्दों पर केंद्र सरकार के चेहरे के रूप में कार्य कर चुके हैं। उन्होने नोटबंदी के दौरान 500 और 2000 के नये नोटों की आपूर्ति और सरकार का बचाव करने में अहम भूमिका निभाई है। शक्तिकान्त दास G-20 देशों के समूह में भारत के Development track के Sherpa (नवम्बर-2017 से) के रूप में भी कार्यरत थे।

शिक्षा:

  • स्कूल- Demonstration Multipurpose स्कूल, भुवनेश्वर
  • Bachelor of Arts- इतिहास-St. Stephen’s कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय (First Division)
  • Master of Arts- इतिहास-St. Stephen’s कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय (First Division)
  • Financial Management Advanced-Indian Institute of Management, 1991-1992
  • Project Management Basic- Administrative Staff College of India (ASCI) 1995-1996

शक्तिकांत दास ने भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी के रूप में कई महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया है जिसमें केन्द्रीय राजस्व सचिव(16 जून 2014-31 अगस्त 2015), आर्थिक मामलों के सचिव( 31 अगस्त 2015-28 मई 2017) तथा रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय में सचिव इत्यादि प्रमुख हैं। शक्तिकांत दास को संप्रग सरकार में प्रणब मुखर्जी और पी. चिदंबरम के वित्त मंत्री कार्यकाल में भी वित्त मंत्रालय में संयुक्त सचिव और अतिरिक्त सचिव के पद पर काम करने का अनुभव है। GST को लागू करने में भी उन्होने अहम भूमिका निभाई है।

हाल के समय में सरकार और रिजर्व बैंक के बीच कुछ मुद्दों पर तनाव बना हुआ है जो मीडिया और आम जनता में भी बहस का मुद्दा था। इसी तनाव के चलते ऊर्जित पटेल ने RBI के गवर्नर के पद से इस्तीफा दिया। ऊर्जित पटेल रिजर्व बैंक के चौथे गवर्नर हैं जिन्होने अपना कार्यकाल पूरा होने से पहले ही इस्तीफा दे दिया है। ऐसे में नये RBI गवर्नर के रूप में शक्तिकांत दास को RBI और सरकार के बीच तनाव को दूर कर के भारतीय अर्थव्यवस्था को फिर से विश्व की सबसे तेज़ गति से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्थ के रूप में स्थापित करना और बैंकिंग क्षेत्र में जारी सुधारों को और आगे ले जाना सबसे प्रमुख चुनौतियाँ हैं।

Read also :-

4 Comments

  1. surendra kumar May 21, 2019
    • Arvind Patel May 25, 2019
  2. sachin July 10, 2019

Leave a Reply