भारत के प्रथम मुख्य न्यायाधीश कौन थे।

भारत में सर्वोच्च न्यायालय की स्थापना अंग्रेज़ो द्वारा ही कि गयी थी। इसकी स्थापना 1 सितंबर 1937 को की गई थी। पहले इसकी शुरुआत दिल्ली के Parliament Building में कई गयी थी। इसकी शुरुआत एक मुख्य न्यायाधीश तथा दो इनके निचले दर्जे के जज के साथ हुआ था। जब इसकी शुरुआत की गई तब Supreme Court ,  The Federal Court के नाम से जाना जाता था। भारत मे लोकतंत्र लागू होने के बाद इसे Supreme Court of India के नाम से जाना जाने लगा। जब Supreme Court की शुरुआत हुई थी तब इसके पहले मुख्य न्यायाधीश के रूप में Sir Maurice Gwyer  ( मॉरिस गॉयर ) को नियुक्त किया गया था।

bharat ke pratham mukhya nyayadhis koun the

Maurice Gwyer – भारत के पहले मुख्य न्यायाधीश

Maurice Gwyer का पूरा नाम Sir Maurice Linford Gwyer था। यह एक ब्रिटिश वकील और जज थे। इनका जन्म 25 अप्रैल 1878 को हुआ था। इनकी मृत्यु 74 साल की उम्र में 12 अक्टूबर 1952 को हुई थी। इन्होंने The Federal Court के  मुख्य न्यायाधीश के रूप में 1 अक्टूबर 1937 से ले कर 25 अप्रैल 1943 तक काम किया। इस तरह Gwyer इस पद पर लगातार 2032 दिन बने रहे। Maurice Gwyer भारत के मुख्य न्यायाधीश होने के साथ साथ कई अन्य महत्वपूर्ण पदों पर भी रहे। भारत के बेहतरीन यूनिवर्सिटी में गिनी जाने वाली दिल्ली यूनिवर्सिटी ( Delhi University ) के Vice Chancellor के पद पर Maurice Gwyer 1938 से ले कर 1950 तक रहे।

Delhi University के Vice Chancellor रहते हुए उन्हें Miranda House College की शुरुआत करने के लिए जाना जाता है। Miranda House की शुरुआत दिल्ली यूनिवर्सिटी के अंतर्गत 1948 में की गयी थी। यह कॉलेज  महिलाओं के लिए शुरू किया गया था। इस College में Science और Liberal arts की पढ़ाई होती है। मौजूदा समय में Miranda House देश के बेहतरीन College में गिना जाता है। 2017 में  NIRF ( National Institutional Ranking Framework ) द्वारा इस  कॉलेज को भारत का सबसे बेहतरीन कॉलेज घोषत किया गया था। Gwyer के सम्मान में दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्रों के लिए Gwyer Hall का निर्माण किया गया है।

Maurice Gwyer के इस पद से हटने के बाद कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के रूप में Sir Srinivas Varadachariar को नियुक्त किया गया। इनका कार्यकाल 25 अप्रैल 1943 से 7 जून 1943 तक रहा। इनका कार्यकाल सिर्फ 43 दिन का रहा। इनके बाद Sir Patrick Spens भारत के दूसरे मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किए गए। Patrick का कार्यकाल 7 जून 1943 से ले कर भारत के आज़ाद होने तक यानी 14 अगस्त 1947 तक रहा। इनका कार्यकाल 1529 दिन का रहा था।

H J Kania – आज़ाद भारत के पहले मुख्य न्यायाधीश

H J Kania का पूरा नाम Harilal Jekisundas Kania था। भारत की आज़ादी के बाद भी सर्वोच्च न्यायालय The Federal Court के नाम से ही जाना जाता रहा। आज़ाद भारत के बाद इसके मुख्य न्यायाधीश के रूप में 14 अगस्त 1947 को  Sir Harilal Jekisundas Kania नियुक्त किए गए। इनका कार्यकाल भारत के लोकतांत्रिक देश घोषित होने तक यानी 26 जनवरी 1950 तक रहा। 26 जनवरी 1950 के बाद Federal Court , Supreme Court हो गया। इसके बाद फिर से इसके मुख्य न्यायाधीश के रूप में एच जे कनिया ( H J Kania ) नियुक्त किए गए। इनका कार्यकाल तब 26 जनवरी 1950 से ले कर इनके निधन तक, 6 नवंबर 1951 तक रहा।

Leave a Reply