भारत के दक्षिण में कौन सा महासागर है।

आज हम जानेंगे के भारत के दक्षिण में कौन सी महासागर है। लेकिन आपको यह जानने से पहले ये जानना होगा के महासागर किसे कहते हैं और महासागर का हमारी ज़िंदगी में क्या महत्व है।

bharat ke dakshni mahasagar koun sa hai

महासागर किसे कहते हैं ?

महासागर एक खारा पानी का विशाल ज़खीरा है। यहां पर बताते चले के खारा पानी उस पानी को कहते हैं, जो प्राकृतिक रूप से नमकीन होते है और इसमें नमक और लवण की मात्रा मिली होती हैं। और ये खारा पानी पीने के योग्य नहीं होता हैं। महासागर पूरे जल मंडल का एक प्रमुख भाग है। महासागर के विशालता का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है, कि पूरे पृथ्वी का जितना क्षेत्रफल है, उसके 71% भाग में सिर्फ सागर और महासागर फैले हुए हैं। जिसमें से लगभग आधे महासागर की गहराई लगभग 3000 मीटर है।

पूरी दुनिया के सागर एवं महासागर लगभग 367 मिलियन वर्ग किलोमीटर के क्षेत्रफल में फैला हुआ है। ये इतना बड़ा क्षेत्रफल है, कि चांद से नौ गुना और मंगल ग्रह के दो गुने क्षेत्रफल के बराबर है। पूरे विश्व के 100% जल में से लगभग 98% जल महासागरों में है, बाकी 2% भू जल तथा नदी, झील इत्यादि में पाया जाता है।

  • महासागर का हमारी ज़िंदगी में महत्व

जल चक्र में महासागर अहम भूमिका निभाता है। महासागर का हमारी ज़िंदगी में क्या महत्व है, ये जानने के लिए पहले आपको एक Hydrological Water Cycle को समझना होगा, Hydrological Water Cycle के अन्तर्गत water cycle में होने वाले लगातार गतिविधियों के बारे में जानते हैं। Water Cycle के अंतर्गत जब वर्षा होती है तो ये नदी, नाले झील इत्यादि से होते हुए वर्षा जल महासागर में मिल जाती है। पूरे विश्व के कुल वर्षा का 78% पानी महासागरों में होती है। ये महासागरों के जल पुनः वाष्पीकृत हो कर बादल में चले जाते है। ये हम सब लोग जानते हैं, कि वर्षा वाष्पीकरण के कारण ही होता है। अगर वाष्पीकरण न हो तो वर्षा नही हो पाऐगी। अतः पूरे विश्व में 86% वाष्पीकरण सागरों द्वारा ही होता है। बाकी नदी, नाले, झील, पेड़-पौधे द्वारा होते है। अतः हम कह सकते हैं के हमारे जीवन में महासागरों का योगदान अहम है।

विश्व के कुछ मुख्य महासागरों के नाम

  • हिन्द महासागर
  • अंटार्कटिक महासागर
  • प्रशांत महासागर
  • आर्कटिक महासागर
  • अटलांटिक महासागर

भारत के दक्षिण में स्थित महासागर का नाम

अब बात करते हैं, भारत के दक्षिण में फैले महासागर के बारे में। भारत के दक्षिण में फैले महासागर का नाम हिन्द महासागर है। हिन्द महासागर के साथ एक और गर्व जुड़ा हुआ है, पूरे विश्व में ये अकेला ऐसा महासागर है, जिसका नाम किसी देश के नाम पर है। हिंदुस्तान के नाम पर ही इसका नाम हिन्द महासागर है। अंग्रेजी में इसे Indian Ocean के नाम से जाना जाता है, इसे संस्कृत में “रत्नाकर” कहा गया है, यानी रत्न उत्पन्न करने वाला। इसके इलावा इसका नाम प्राचीन हिन्दू ग्रंथों में भी देखने को मिलता है, जहां इसे हिन्दू महासागर कहा गया है।

हिंद महासागर दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा समुन्द्र है। हिन्द महासागर में पृथ्वी की सतह पर उपलब्ध कुल पानी का लगभग 20% भाग हिन्द महासागर में समाया हुआ है। हिन्द महासागर में कुल 292131000 घन किलोमीटर पानी होने का अनुमान है। हिन्द महासागर पश्चिम में पूर्व अफ्रीका, पूर्व में सुनंदा द्वीप समूह, हिन्दचीन और ऑस्ट्रेलिया, उत्तर में भारतीय उप महाद्वीप, तथा दक्षिण में दक्षिणी ध्रुव महासागर से घिरा हुआ है।

हिन्द महासागर में बहने वाली कुछ बड़ी नदियो के नाम

  • सिंधु
  • गोदावरी
  • शटल अल अरब
  • कृष्णा
  • नर्मदा
  • गोदावरी
  • ब्रह्मपुत्र
  • जांबिजि
  • जुबबा इत्यादि

Leave a Reply