भारत की सबसे छोटी नदी कौन सी है। Which Is The Smallest River in India

जल ही जीवन है और बिना जल के प्राणी के जीवन को imagine नही किया जा सकता, ऐसे मे हमारे पृथ्वी के पास कहने को 71% हिस्से मे जल है परंतु इस जल मे से मात्र 3% जल ही पीने योग्य है, ऐसे मे सृष्टि के beginning से लेकर आज तक हम सभी human civilization (मानवीय सभ्यता) को पीने वाले पानी के श्रोत नदियों के पास ही विकसित होते देखते हैं, चाहे वो सिंधु सभयता का period हो या वर्तमान भारत जहां आज भी नदियों के चार अपवाह तंत्र (प्रणालियों) पूरे देश मे पानी की आपूर्ति करते हैं| आज हम जिस विषय पर बात कर रहे हैं वो भारत देश के सबसे छोटी नदी की ओर indicate करता है परंतु इस नदी की पूर्ण जानकारी देने से पूर्व हमें ये समझना essential है कि आखिर ये नदियां हैं क्या? ये कितने प्रकार की होती हैं और इनकी प्रणालियों के साथ भारत की मुख्य नदियां कौन-कौन सी हैं?

bharat ki sabse choti nadi koun si hai

नदियां क्या हैं ?

धरती पर जीवों को जीवनदायी शक्ति देती नदियां वास्तव मे भूतल पर प्रवाहित जल की वो धारा हैं जो झीलों(lake), हिमनदो, झरनों(fountain) या बारिश के पानी से निर्मित तो होती हैं पर बहते-बहते ये गिरती हैं सागर या झील मे| भारत देश मे पूज्यनीय इन नदियों के origin को संस्कृत भाषा के नद्य: से लिया माना जाता है जो नदी का रूपान्तरण है।

नदियों के प्रकार

हमारे देश मे देवी के रूप मे पूजे जाने वाली नदियों को दो वर्गों मे divide किया जाता है:

  • सदानीरा नदियां : अर्थ से ही स्पष्ट है ये ऐसी नदियां हैं जिनमे सदैव जल रहता है।
  • बरसाती नदियां: बारिश के जल पर आश्रित नदियों को बरसाती नदियां कहते हैं।

नदियों की प्रणालियाँ (अपवाह तंत्र)

पूरे राष्ट्र को एकता के सूत्र मे बांधती व मानव जाति के सामाजिक, सांस्कृतिक व आर्थिक उन्नति की सहभागी बनी हमारी नदियों को चार नदी प्रणाली मे बांटा गया है:

  • उत्तर भारत की सिंधु नदी प्रणाली
  • मध्य भारत को सिंचित करती माँ गंगा
  • उत्तर पूर्व तक अपना जल पहुंचाती ब्रह्मपुत्रा
  • प्रायद्वीपीय भारत मे नर्मदा, कावेरी व महानदी प्रणाली

भारत की प्रमुख नदियां

भारत देश जिसे प्राचीन काल से ही नदी घाटी सभ्यताओं (सिंधु घाटी सभ्यता) के विकास क्षेत्र होने का गौरव प्राप्त हो चुका है और जिसके चलते इतना तो प्राचीन काल से ही सुनिश्चित हो चुका है कि मानवीय जीवन की प्रगति मे सहायक भारतीय नदियां संख्या और सिंचित करते भूभागों की दृष्टि से काफी विस्तृत हैं| ऐसे मे भारत की प्रमुख नदियां कुछ इस प्रकार हैं:

  • गंगा (2525 KM)
  • ब्रह्मपुत्रा (3848 KM)
  • सिंधु (3610 KM)
  • गोदावरी (1465 KM)
  • कृष्णा (1400 KM)

अब हम बात करेंगे भारत की सबसे छोटी नदी की

भारत राष्ट्र को प्रकृति ने एक incredible नदी प्रणाली प्रदान की है जिसके चलते भारत आज भी पूरी दुनिया मे कृषि प्रधान राष्ट्र बना हुआ है, ऐसे मे कृषि और अन्य जरूरतों के लिए नदियों की अनिवार्यता का अंदाजा इस बात से लगाया जाता है कि नदियों को पुनर्जीवित करने का प्रयास जारी है और इस प्रयास का powerful example है भारत की सबसे छोटी नदी अरवरी नदी

अरवरी नदी से जुड़े तथ्य

अरवरी नदी, भारत राष्ट्र के राजस्थान राज्य की धरती के मात्र 90 KM दायरे मे प्रवाहित होती है और इस राज्य के अलवर जिले के माध्यम से बहती है| इस नदी को 60 years के बाद तरुण भारत संघ और 70 गाँव वालों की मदद से 1990 मे पुनर्जीवित किया गया।

तब से आजतक ये नदी गाँव वालों के प्रयास से बारहमासी, सदानीरा बन चुकी है अर्थात बारहों महीने बहने वाली नदी।

One Response

  1. Sangisathi Charitable Foundation December 17, 2018

Leave a Reply