भारत की संसद भवन को किसने डिजाइन किया था ?

अंग्रेज़ो ने भारत को अपने कब्जे में लेने के बाद कलकत्ता को अपनी राजधानी बनाने का फैसला किया। 1772 से 1911 तक यही उनकी राजधानी थी। लेकिन 1911 में अंग्रेज़ी हुकूमत ने अपनी राजधानी दिल्ली लाने का फैसला किया। दिल्ली में राजधानी के लिए उन्होंने नई दिल्ली नाम से एक नए क्षेत्र को बसाने का फैसला किया। उस दौरान वर्तमान समय की सभी बड़ी सरकारी इमारतों का निर्माण किया गया। संसद भवन भी उसी समय बनाया गया था। नई दिल्ली को Design करने की ज़िम्मेदारी ब्रिटिश आर्किटेक्चर एडविन लुटियंस तथा सर हर्बर्ट बेकर को दी गयी थी।

इन्हीं दोनों आर्किटेक्चर ने मिल कर संसद भवन का भी निर्माण किया था। Sir Edwin Lutyens तथा Sir Herbert Baker के नेतृत्व में संसद भवन का निर्माण 1921 में शुरू हुआ तथा लगातार चले निर्माण कार्य के बाद यह भवन 1927 में जा कर पूरा हुआ। संसद भवन का उदघाटन भारत के तत्कालीन वायसराय Lord Irwin ने 18 जनवरी 1927 को किया था। इस संसद में पहली बार बैठक अंग्रेज़ी हुकूमत के समय ही 19 जनवरी 1927 को हुई थी। संसद भवन का आकार गोल है। इसे अशोक चक्र के आधार पर बनाया गया था।

एडविन लुटियंस तथा हर्बर्ट बेकर

bharat ki sansad ko kisne banaya

संसद भवन का डिजाइन तैयार करने वालों में मुख्य भूमिका Sir Edwin Lutyens ने निभाई थी। इनका जन्म लंदन में 18 मार्च 1869 को हुआ था। इनकी मृत्यु 1 जनवरी 1944 को हुई थी। इनके नाम नई दिल्ली के डिज़ाइन के अलावा India Gate, हैदराबाद हाउस, Project New Delhi इत्यादि शामिल है। वर्तमान समय में राष्ट्रपति भवन के नाम से जाने जाने वाला आलीशान भवन भी इन्होंने ही सर हर्बर्ट बेकर के साथ मिल कर बनाया था। उस समय राष्ट्रपति भवन Viceroy House के नाम से जाना जाता था। इसके अलावा विदेशों में भी इनके बनाए कई महत्वपूर्ण भवन आज भी हैं।

नई दिल्ली के निर्माण में दूसरे आर्किटेक्चर Sir Herbert Baker की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही थी। इनका जन्म 9 June 1862 को हुआ तथा मृत्यु 4 February 1946 को हुई थी। इन्हें प्रमुख रूप से दक्षिण अफ्रीका में योगदान देने के लिए जाना जाता है। दक्षिण अफ्रीका के अधिकतर सरकारी भवनों तथा कई बड़े स्कूल, चर्च इत्यादि का डिजाइन इन्होंने ही तैयार किया था। लंदन शहर तथा दक्षिण अफ्रीका के जोहानिसबर्ग को आधुनिक रूप से इन्होंने ही Design किया था।

Leave a Reply