भारत में कुल कितने क़िले हैं।

भारत का इतिहास काफी स्वर्णिम रहा है। इसी कारण कभी भारत को सोने की चिड़िया भी कहा जाता था। इस कथन का प्रमाण आज भी भारत के अलग – अलग राज्यों में देखने को मिलता है। भारत की आज़ादी और अंग्रेज़ी हुकूमत के आने से पहले  तक भारत में राजतंत्र था। इस दौरान रियासतों में बटें भारत के अलग अलग हिस्सों में अलग अलग राजा राज करते थे।

bharat me kul kitne kile hai

राजतंत्र के समय अलग अलग हिस्सों में राज कर रहे राजाओं ने उस हिस्सों में कुछ ऐसे काम किए जो की आज भी उनकी महानता को दर्शाने के लिए काफी है। उस समय के राजाओं ने अपने क्षेत्र में किलों ( Fort ) का भी निर्माण करवाते थे। उस समय के निर्मित महल आज भी भारत की शान में चार चाँद लगाते हैं। भारत के लगभग प्रत्येक राज्य में क़िले मौजूद हैं। इन किलों में कुछ बड़े ही भव्य है जो आज भी आकर्षण का केंद्र है और भारत में पर्यटन के मुख्य  केंद्रों में गिना जाता है।

आंकड़ो के अनुसार भारत के अधिकांश राज्यों में  मौजूद सभी छोटे – बड़े किले को मिला कर कुल 571 किले मौजूद हैं। इन 571 किलों में से कुछ क़िले आज तक बड़ी संख्या में पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। इनमें से अधिकांश किले गुमनामी झेल रहे हैं और रख रखाव के अभाव में नष्ट होने की कगार पर खड़े हैं।

भारत के विभिन्न राज्यों में मौजूद कुछ प्रमुख क़िले

  • आंध्रप्रदेश

आंध्रप्रदेश में अलग अलग शासकों द्वारा बनवाए  छोटे बड़े सभी किलो को मिला कर यहां लगभग 20 किले मौजूद हैं। इनमें सबसे प्रमुख रूप से Guntur District में मौजूद बेल्लमकोंडा किले का नाम लिया जाता है। यह किला लगभग 17वी सदी के मध्य में बनाया गया था। यहां इस क़िले के अलावा गजानन  किला, कोंडापल्ली  किला, उदयगिरि किला, गुर्रमकोंडा किला, अडोनि किला इत्यादि शामिल है।

  • अरुणाचल प्रदेश

यहां सिर्फ दो प्रमुख किलों का नाम आता है। ये दोनो ईटा किला और भीष्मक नगर का किला है।  इन दोनो में से ईटा किला अपनी बनावट के लिए जाना जाता है। पूरी तरह ईंट के उपयोग से बनने के कारण ही इसका नाम ईंट किला रखा गया था। इसके बारे में कहा जाता है की इसका निर्माण 14वीं – 15वीं शताब्दी के बीच सुतिया साम्राज्य के शाशकों द्वारा करवाया गया था। इस किले में लगभग 16,200 Cubic Metre ईंट का उपयोग किया गया है।

इसी तरह असम में मतियाबाग महल समेत 5 क़िले, बिहार में दरभंगा का किला, बक्सर का किला समेत 7 किले, चंडीगढ़ में 2 किले, छत्तीसगढ़ में छोटे बड़े 9 किले, दमन और दीव में 2 किले, सभी दौर में सत्ता का केंद्र रही दिल्ली में लाल किला, नजफगढ़ का किला समेत 10 किले, गोवा में 10, गुजरात में छोटे बड़े कुल 11 किले, हरयाणा में 25 किले, हिमाचल में 10, J&K मे 7, झारखंड में 2, कर्नाटक में 13, केरल में 14, मध्यप्रदेश में 28 क़िले, सिर्फ महाराष्ट्र में अकेले लगभग 250 किले, मणिपुर में 2, ओडिसा में 5, पुड्डुचेरी में 1, पंजाब में 13, राजस्थान में लगभग 50, सिक्किम में 1, तमिलनाडु में लगभग 30, तेलंगाना में 17, उत्तरप्रदेश मे लगभग 20, उत्तरखंड में 6 और पश्चिम बंगाल में 6 प्राचीन क़िले मौजूद हैं।

Read also :_

Leave a Reply