भारत मे कुल कितने बंदरगाह है ? जानिए भारत के Top 10 बंदरगाह के बारे।

भारत में कितने बंदरगाह हैं इस article के माध्यम से हम इस विषय पर जानकारी प्राप्त करेंगे इसी के साथ हम भारत की किस राज्य में कितने बंदरगाह हैं इसके बारे में भी जानकारी प्राप्त करेंगे तो चलिए शुरू करते हैं।

bharat me kitne bandargah hai

किसी भी देश की अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने मे आयात तथा निर्यात की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। ज्यादातर देश जहाजो के माध्यम से यह कार्य करते है, इसलिए देश मे बंदरगाहों की भूमिका अहम हो जाती है।

भारत के कुल कितने बंदरगाह है।

बात अगर भारत के कुल बंदरगाहों की जाये तो देश मे 13 प्रमुख बंदरगाह है। जिनमे 12 बंदरगाह सरकारी है एवं चेन्नई का Ennor बंदरगाह एक Company के स्वामित्व मे है। देश मे इसके अलावा 200 छोटे एवं medium ports भी है। जो देश के विभिन्न राज्यो मे वितरित है।

बंदरगाह शब्द सुनने में काफी जाना पहचाना सा word लगता है, परन्तु इसके असल अर्थ से सभी लोग परिचित नही होते। पहले उसको जानते है –

अगर सरल शब्दों में बंदरगाह का Meaning समझा जाये तो, यह समुद्र के किनारे का वह सुरक्षित स्थान होता है, जहाँ पर जहाजों एवं नौकाओ को रोका जाता है। यह जल के कम बहाव वाले क्षेत्र होते है, जहाँ पर यात्रा के बाद आसानी से जहाजो को रोका जा सकता है। बंदरगाह वास्तविक रूप से “फ़ारसी” भाषा का शब्द है। बंदरगाह के लिऐ हिंदी भाषा मे “पोताश्रय” शब्द का Use किया जाता है।

भारत के प्रमुख बंदरगाहों के बारे में जानकारी।

  1. पारादीप बंदरगाह (Paradip Port)

पारादीप बंदरगाह ओडिसा राज्य के जगतसिंहपुर जिले में स्थित है। यह एक गहरे पानी वाला बंदरगाह है, जिसकी गहराई लगभग 15 मीटर है। बंगाल की खाड़ी और महानदी के मिलन स्थल पर स्थित इस बंदरगाह का उद्धघाटन 12 मार्च 1966 में हुआ था। इस Port का संचालन पारादीप पोर्ट ट्रस्ट द्वारा किया जाता है, जिसका पूर्ण स्वामित्व भारत सरकार के हाथों में है। इस बंदरगाह से मुख्य रूप से Thermal Coal और लोहे का निर्यात किया जाता है।

  1. विशाखापट्टनम बंदरगाह (Vishakhapattanam Port)

यह Andhra Pradesh का एकमात्र प्रमुख बंदरगाह है। पूर्वी तट के भारतीय क्षेत्र में स्थित है।कार्गो की मात्रा के हिसाब से यह भारत का दूसरा सबसे बड़ा बंदरगाह है। यह Port 19 दिसम्बर 1933 में खोला गया था। इसके अध्यक्ष MT krishna Babu  है। चेन्नई औऱ कोलकाता बंदरगाह के बीच स्थित इस Port से लौह अयस्क, मैगजीन अयस्क, इस्पात उत्पाद का आयात- निर्यात किया जाता है।

  1. चेन्नई बंदरगाह (Chennai Port)

यह एक Artificial Port है, जिसको पहले मद्रास के नाम से जाना जाता था। इस बंदरगाह की गिनती भारत के दूसरे सबसे बड़े सागरीय-व्यापार केंद्र के रूप में होती है। 1881 में शुरू हुये इस Port का संचालन चेन्नई पोर्ट ट्रस्ट करता है, जिसका स्वामित्व Govt of India के हाथों में है। Ravendra P इसके Chairman है। चमड़ा, रबर, Tea, तिलहन, नारियल तथा मछली का यहाँ से मुख्य रूप से निर्यात किया जाता है।

  1. तूतीकोरिन बंदरगाह (Tuticorin Port)

यह बंदरगाह तमिलनाडु के तूतीकोरिन मे है। जो मन्नार की खाड़ी पर स्थित है। इसका उद्घाघाटन 1974 को हुआ था। इस port का स्वामित्व जहाजरानी मंत्रालय के पास है। इसकी गहराई 12 से 15 मीटर तक है। 2011 के बाद से इसको वीओ चिदम्बरम के नाम से जाना जाने लगा। Port से चाय, केला, नारियल, कपास, चमड़ा, इलाइची तथा सूती वस्त्र का निर्यात किया जाता है।

  1. हल्दिया बंदरगाह (Haldia Port)

पश्चिम बंगाल के Haldia मे स्थित यह बंदरगाह एक विशेष Port की भूमिका अदा करता है। यह पश्चिम बंगाल के साथ-साथ झारखण्ड, बिहार, उत्तरप्रदेश तथा मध्यप्रदेश में व्यापार को मजबूती प्रदान करता है। 1967 में Open हुये इस पोर्ट का संचालन कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट करता है, जबकि इसका स्वामित्व जहाजरानी मंत्रालय के कार्यभार मे शामिल है। अमल दत्ता इसके प्रबंधक है। Port से Petroleum and Chemicals का आयात किया जाता है, जबकि निर्यात में कोयला, लौह अयस्क तथा स्टील शामिल है।

  1. कांडला बंदरगाह (Kandla Port)

गुजरात के कच्छ जिले में स्थित यह बंदरगाह देश का सबसे बड़ा port है। इसका वर्तमान नाम दीनदयाल बंदरगाह है। 1965 मे खुले इस पोर्ट का संचालन एवं स्वामित्व दीनदयाल पोर्ट ट्रस्ट के हाथों में है। इसके Chairman Ravi M. Parmar है। यहाँ से नमक, लोहा, आनाज, तथा रसायन का भारी मात्रा में आयात निर्यात किया जाता है।

  1. जवाहर लाल नेहरू बंदरगाह (Jawaharlal Nehru Port)

महाराष्ट्र राज्य के नवी मुंबई में अरब सागर के तट पर यह पोर्ट स्थित है। जोकि मुंबई शहर के दक्षिण में है। इस बंदरगाह को Nhava Sheva के नाम से भी जाना जाता है। यह देश का सबसे बड़ा कन्टेनर बंदरगाह है। मई 1989 में खुले इस पोर्ट का संचालन जवाहर लाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट द्वारा किया जाता है। Govt of india के हाथों में इसके स्वामित्व की बागडोर है। इस बंदरगाह से रसायन, एलुमिनियम, कपास, कपड़े तथा तिलहन का आयात एवं निर्यात किया जाता है।

  1. मुम्बई बंदरगाह (Mumbai Port)

Ulhash जैसी नदी के दक्षिणी भाग पर स्थित यह बंदरगाह देश का एवं महाराष्ट्र का मुख्य पोर्ट है। यह गहरे पानी वाला पोर्ट है, जिसकी गहराई 11 मीटर है। इसका आधिकारिक नाम Front Bay है। मुंबई का यह पोर्ट अरब सागर के दक्षिण की ओर खुलता है। भारत सरकार के स्वामित्व में इस पोर्ट का संचालन मुम्बई पोर्ट ट्रस्ट के हवाले है। Leather की वस्तुएँ, ऊनी एवं सूती कपड़े, तिलहन तथा इंजीनियरिंग समान का यहाँ से आयात निर्यात किया जाता है।

9. न्यू मंगलौर बंदरगाह (New Mangalore Port)

कर्नाटक राज्य के मंगलौर जिले में स्थित यह पोर्ट भारत के पश्चिमी तट पर है। इसका उद्घाटन 4 मई 1974 में हुआ था। इस पोर्ट का संचालन न्यू मंगलौर पोर्ट ट्रस्ट द्वारा किया जाता है। पोर्ट का स्वामित्व अन्य की भांति भारत सरकार के कार्यक्षेत्र में आता है। Shri P.C parida इसके Chairman है। पोर्ट पर आयात की वस्तुओं मे उर्वरक, तेल, तथा Machinary शामिल है। निर्यात के लिये लौह अयस्क, ग्रेनाइट, काजू, शीरा एवं चंदन का तेल प्रयोग किया जाता है।

  1. मार्मुगाओ बंदरगाह (Mormugao port)

यह बंदरगाह देश का एक प्राकृतिक पोर्ट है। जो गोआ के mormugao में स्थित है। भारत के पश्चिमी तट पर स्थित इस पोर्ट पर निर्यात, आयात की तुलना में ज्यादा होता है। 1963 मे इनको खोला गया था। इसका स्वामित्व भी भारत सरकार के कब्जे में है। गिरि का तेल, खोपरा, काजू, लौह अयस्क, मैगनीज, खनिज तेल, उर्वरक तथा दवाइयों का यहाँ से import export किया जाता है।

  1. कोच्चि बंदरगाह (Kochi Port)

26 may 1928 में open हुआ यह बंदरगाह केरल राज्य के कोच्चि में है। यह एक प्राकृतिक पोर्ट है। जो कि केरल के मालाबार तट पर स्थित है। इसका स्वामित्व Govt of India के हक में है। यहाँ से आयात की जाने वाली वस्तुओं में चावल, गेंहू, कोयला, कपड़ा आते है। निर्यात के लिए रस्से, नारियल की जटा, गर्म मसाले, कहवा का उपयोग होता है।

  1. एन्नौर बंदरगाह (Ennore Port)

यह देश का इकलौता कारपोरेटीकृत बंदरगाह है। October 1999 में  कंपनी अधिनियम 1956 के तहत इस पोर्ट को Ennore port limited के रूप में निगमित कर दिया गया, इसके बाद 22 जून 2001 में इसका उद्घाटन हुआ। यह बंदरगाह चेन्नई में है। जोकि कोरोमंडल तट पर स्थित है। एक सीमित मात्रा में लौह अयस्क एवं POL का यहाँ से आयात निर्यात होता है।

  1. कृष्णपत्नम बंदरगाह (Krishnapatnam Port)

भारत के पूर्वी तट पर स्थित यह पोर्ट 2008 मे अस्तित्व में आया। इसको KPCL के नाम से भी जाना जाता है। आंध्रप्रदेश राज्य के नेल्लोर जिले में यह पोर्ट पाया जाता है। इसका संचालन krishnapatam port company limited के द्वारा किया जाता है। नवयुग इंजीनियरिंग कंपनी के पास इसका स्वामित्व है। खाद्य तेल, कोयला, उर्वरक तथा ग्रेनाइट का इस पोर्ट से आयात निर्यात किया जाता है।

छोटे एवं मध्यम बंदरगाह

देश मे इन 13 प्रमुख बंदरगाहों के अलावा 200 और छोटे एवं मध्यम बंदरगाह है। जो देश के विभिन्न राज्यो में बिखरे है। जिनका विवरण निम्न है।

  1. महाराष्ट्र – 48
  2. गुजरात – 42
  3. अंडमान – 23
  4. केरल – 17
  5. तमिलनाडु – 15
  6. ओड़िशा – 13
  7. आंध्रप्रदेश – 12
  8. कर्नाटक – 10
  9. लक्षदीप। – 10
  10. गोआ – 05
  11. दमन & द्वीप – 02
  12. पांडिचेरी – 02
  13. प. बंगाल – 01

दोस्तों हम उम्मीद करते हैं आपको यह पोस्ट भारत में कितने बंदरगाह है जरूर पसंद आई होगी। अगर आपके इस post से related कोई क्वेश्चन है तो आप हमसे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं और अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी तो इसे सोशल मीडिया whatsapp, facebook पर भी शेयर जरूर करें।

Leave a Reply