भारत में जनगणना का शुभारंभ कब हुआ था।

हम इस लेख में “भारत में जनगणना का शुभारंभ कब हुआ” ये जानेंगे। अगर आपके इस विषय “भारत में जनगणना का शुभारंभ कब हुआ” से सम्बंधित कोई question है, तो आप जनसंख्या यानी population से जुड़ी हमारी इस post को पूरा जरूर पढ़ें।

bharat me pehlo janganna kab hui

दोस्तों, इस सृष्टि में लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है और इस world को सही तरीके से चलाने के लिए लोगों की संख्या पर control होना बेहद जरूरी है। इसका कारण है कि यदि लोगों की संख्या पर control नहीं किया गया, तो इस world को यानी इस पृथ्वी को संतुलित नहीं रखा जा सकेगा। जिसके कारण पृथ्वी पर भार बढ़ने से इसके नष्ट होने के chances बढ़ सकते हैं। इसके लिए govt. कई तरह के प्रयास करती है, जिनमें से जनगणना भी एक है। जनगणना लोगों की संख्या को कहा जाता है और इसे अंग्रेजी में Census कहा जाता है। जनगणना सभी countries में world के सन्तुलन के लिए की जाती है। हम आगे जानेंगे कि भारत में इसका शुभारंभ कब हुआ।

भारत में जनगणना का शुभारंभ कब हुआ

भारत में जनगणना यानी census का शुरुआत 1872 से मानी जाती है। लेकिन देखा जाए तो ये 1881 से ये regular हुई और तब से हर दस वर्ष में जनगणना होती जा रही है। जब 1872 में ये हुई थी, तब लार्ड मेयो का शासन काल चल रहा था और लार्ड रिपन के शासन काल से ये regular हो पाई। भारत के स्वतंत्र होने के बाद की पहली जनगणना 1951 में हुई थी। इतना ही नहीं जाति के आधार पर भी जनगणना की शुरुआत हुई। ये जनगणना 1931 से शुरू हुई। हमारे देश की कुल population 2011 के अनुसार 1,210,854,977 है, जो world की population का 17.5% है। इसके साथ-साथ जनसंख्या घनत्व 382 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर है। 2011 में हुई जनगणना हमारे देश की 15वीं जनगणना थी। वर्तमान के आंकड़े इससे ज्यादा हो सकते हैं, क्योंकि population दिन-दिन ज्यादा बढ़ रही है। नियम के अनुसार आगे 16वीं जनगणना 2021 में होने की उम्मीद है।

तो finders, आज हमने “भारत में जनगणना का शुभारंभ कब हुआ” जानकारी आपके साथ share की है। अगर इस topic “भारत में जनगणना का शुभारंभ कब हुआ” से जुड़े आपके कोई question हैं, तो आप हमें comment में बता सकते हैं। हमने भारत की जनसंख्या से जुड़ी कई जरूरी जानकारी आपको इस लेख “भारत में जनगणना का शुभारंभ कब हुआ” में दे दी है।

Read also ;-

Leave a Reply