भारत का सबसे लंबा समुन्द्र तट कहाँ पर है।

भारत तीन ओर से प्राकृतिक रूप से समुन्द्रों से तथा एक ओर से पहाड़ों से घिरा हुआ देश है। भारत के पश्चिम में अरब सागर ( Arabian Sea ) , दक्षिण में हिन्द महासागर ( Indian Ocean ) तथा पूर्व में बंगाल की खाड़ी ( Bay Of Bengal ) मौजूद है। ये समुन्द्र भारत के कई बड़े राज्यों को भी छूती है। इसमें मुख्य रूप से मुंबई, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल इत्यादि शामिल है।

bharat ka sabse lamba samudra tat kounsa hai

ये समुन्द्र कई मायने में महत्वपूर्ण होते हैं। ये समुन्द्र कई खूबसूरत समुन्द्र तटों का निर्माण करती हैं। इन तटों पर बड़ी संख्या में लोग सुकून के पल जीने के लिए तथा पर्यटन के उद्देश्यों से आते है। भारत की आर्थिक राजधानी कहे जाने वाले मुंबई में ऐसे दर्जनों खूबसूरत समुंद्री तट मौजूद हैं जहां लोग सैर करने तथा समय बिताने आते हैं।

मुंबई के अलावा भी दूसरे राज्यों में भी कई खूबसूरत समुंद्री तट हैं, जो कि बड़ी संख्या में लोगों को अपनी ओर आकर्षित करता है। ऐसा ही एक तट तमिलनाडु राज्य के सबसे बड़े शहर चेन्नई में मौजूद हैं। इस तट का नाम मरीना तट ( Marina Beach ) है। मरीना बीच खूबसूरत तट होने के साथ-साथ भारत का सबसे लंबा समुंद्री तट भी है। यह सबसे लंबी तट बंगाल की खाड़ी के कोरोमण्डल तट के पास मौजूद है।

मरीना बीच – भारत का सबसे लंबा समुंद्री तट

  • संक्षिप्त परिचय

बंगाल की खाड़ी से निकलने वाला यह तट, एक शहरी प्राकृतिक तट है। यह उत्तर में चेन्नई में मौजूद Fort St George नाम के किले के पास से शुरू हो कर दक्षिण दिशा की ओर आगे बढ़ते हुए Foreshore Estate तक जाती है। इन दोनों के बीच यह लगभग 6 किलोमीटर लंबी है। यूं तो इस मरीना बीच की कुल लंबाई 13 किलोमीटर है। लेकिन आमतौर से उपयोग में 6 किलोमीटर बीच ही आता है। 6 किलोमीटर की लंबाई के साथ ही मरीना बीच भारत की सबसे बड़ी शहरी प्राकृतिक तट है। यह विश्व के भी लंबे शहरी प्राकृतिक तटों में से एक है। इस बीच की सीमाओं का निर्धारण 1884 में किया गया था।

मरीना बीच पूरी तरह रेतीली ( Sandy ) है। इस बीच की औसत चौड़ाई 300 मीटर यानी 980 फिट है। इसके सबसे चौड़े हिस्से की बात करें तो उसकी कुल चौड़ाई 437 मीटर है। मरीना बीच की खूबसूरती और लोकप्रियता का अंदाज़ा इस बात से भी लगता है, कि इस बीच पर प्रत्येक दिन लगभग 30000 लोग आते हैं। यही आंकड़ा Weekends तथा छुट्टी के दिनों में 50 हज़ार तक पहुँच जाता है। गर्मी के दिनों में भी इस बीच पर बड़ी संख्या में लोग आते हैं। गर्मी के समय यह आंकड़ा 15 से 20 हज़ार के आसपास रहता है।

इतनी बड़ी संख्या में पर्यटक ज़रूर आते हैं, लेकिन इस बीच के बारे में एक बात यह भी है, कि इसके तट पर नहाना तथा तैराकी करना सख्त मना हैं। इस मनाही का मुख्य कारण इन इलाकों में समुन्द्र का अत्यधिक अशांत होना है। इसके बाद भी इतनी संख्या में लोग आते हैं क्योंकि यहां से सूर्यास्त देखना एक सुखद अनुभव देता है। साथ ही कुछ छोटे मोटे-खेल के लिए भी यह उपयुक्त स्थान है।

मरीना बीच तमिलनाडु की राजनीति के लिहाज से भी काफी महत्वपूर्ण है। इसी बीच पर तमिलनाडु के इतिहास के कई गणमान्य लोगों के स्मारक हैं। इनमें मुख्य रूप से अन्न मेमोरियल, MGR मेमोरियल, जय ललिता मेमोरियल, क्लैग्नर मेमोरियल है।

Leave a Reply