बिना रुके सबसे ज्यादा दूरी तक चलने वाली ट्रेन कौन सी है।

भारतीय रेल से भला कौन अपरिचित होगा। हर कोई जीवन में कभी न कभी रेल की सवारी करता ही हैं। और अगर बात भारत की हो तो रेल तो यहां की मुख्य सवारी है। भारतीय रेल का इतिहास बहुत पुराना है। भारतीय रेल लगभग अपने 165 साल से भी ज़्यादा वक़्त सफलतापूर्वक पूरा कर चुका है। भारतीय रेल की स्थापना ब्रिटिश शासनकाल में प्रशासनिक सुविधाओं के उद्देश्य से लॉर्ड डलहौजी द्वारा सन 1853 ईo में किया गया था।

bharat ki sabse tez cahlne vali train ka naam kya hai

भारत की सबसे पहली ट्रेन मुंबई से ठाणे के बीच चलाया गया था, जिसने 34 km का सफर तय किया था। तब के समय में रेलवे की शुरुआत एक छोटे स्तर पर की गई थी, लेकिन देखते-देखते ही इसकी मांग बढ़ती गई और इसका विस्तार तेज़ी से होते गया और ये पूरे भारत में तेज़ी से फैल गया। वर्तमान समय में भारतीय रेल एशिया का सबसे बड़ा और दुनिया का चौथा सबसे बड़ा रेल व्यवस्था है, सबसे बड़े रेल व्यवस्था के मामले मे भारत से ऊपर US, Russia, और China है।

भारत में चलाई जाने वाली ट्रेन अलग-अलग प्रकार की हैं। कुछ ट्रैन लोकल स्तर पर चलाई जाती हैं तो कुछ एक राज्य से दूसरे राज्य तथा कुछ कई राज्यों से हो कर जाती है। कुछ ऐसी ट्रेन भी है जो की लगातार चलते हुए बिना रुके कई सौ किलोमीटर तक चलती हैं। इन्ही मे Delhi Sarai Rohila- Yasvantpur jn Duronto Express है जो कि बिना रुके लंबी दूरी तय कर जाती है। इस कारण यह भारत की बिना रुके सबसे अधिक दूरी तय करने वाली ट्रेन है।

Delhi Sarai Rohila- Yasvantpur jn Duronto Express – भारत की बिना रुके सबसे ज्यादा दूरी तक चलने वाली ट्रेन

  • संक्षिप्त परिचय

भारत में बिना रुके सबसे ज़्यादा दूरी तय करने वाली ट्रेन  Delhi Sarai Rohila- Yasvantpur jn Duronto Express है। यह ट्रेन हबीबगंज से बलहरशाह ( Habibganj – Balharshah ) के बीच बिना रुके हुए 594 Km का सफर तय करती है। इस सफर को पूरा करने में कुल 7 घंटा 35 मिनट का समय लगता है। यह ट्रेन दिल्ली के Sarai Rohila से चलती है, जो कि बेंगलौर में स्थित Yadvsntpur तक जाती है। यह एक सुपरफास्ट एक्सप्रेस ट्रेन है। इस ट्रेन की औसतन स्पीड 75.63 km/h है और इसकी अधिकतम स्पीड 140 km/h है। यह ट्रेन पहली बार 19 फरवरी 2011 को चलाई गई थी।

भारतीय रेल के बारे में अन्य जानकारी

वर्तमान में भारतीय रेल का उपयोग कुछ मुख्य उद्देश्यों जैसे परिवहन के लिए , माल वाहन के लिए इत्यादि उद्देश्यों से किया जाता है। भारतीय रेल को Central government के ministry of Railway द्वारा handle किया जाता है। भारतीय रेल की विशालता का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि भारतीय रेल मार्ग लगभग 115000 km में फैला हुआ है। कहा जाए तो ये इतनी ज़्यादा लंबी है कि पूरी पृथ्वी को एक बार घेरा जा सकता है। इसके अलावा 115000 लंबाई के रेल मार्ग पर छोटे बडे 7172 स्टेशन बने हुए है। भारत में अब तक कुल रेल मार्ग के 40% का विधुतीकरण किया जा चुका है। आने वाले समय में ज़्यादा से ज़्यादा रेल मार्ग को विधुतीकरण करने की योजना है।

भारतीय रेल अलग-अलग प्रकार के है जो निम्नलिखित प्रकार है

  • Mail train
  • Duronto train
  • Rajdhani train
  • Superfast train
  • Express train
  • Rajya Rani train
  • InterCity train
  • Passenger train
  • Fast passenger train
  • Mixed Passenger train
  • Shuttle train

ये सब ट्रेन अपनी अलग-अलग सुविधाओं को और अपने औसतन स्पीड को लेकर जानी जाती है। हर ट्रेन की उसके प्रकार के अनुसार अलग-अलग सुविधाएँ और ट्रेन की स्पीड होती है। इसी में कुछ ट्रेन की स्टॉपेज कम होती है कुछ की ज़्यादा होती है।

Leave a Reply