EMI का Full Form क्या होता है । Emi का पूरा नाम क्या है ?

EMI का फुल फॉर्म Equated Monthly Installment होता है, हिंदी में इसे समान मासिक किश्त कहा जाता है। EMI लोन का वह हिस्सा होता है जो borrower को lender को प्रतिमाह भुगतान करना होता है। इस EMI में  मूलधन (principal) एवं एक निश्चित दर पर दिया जाने वाला ब्याज ( interest) शामिल होता है। Loan के अलावा EMI की सुविधा बहुत से products खरीदने पर भी दी जाती है।  Credit base पर product खरीदने के बाद उपभोक्ता को प्रतिमाह एक निश्चित amount विक्रेता को भुगतान करना पड़ता है। कई sellers द्वारा customers को No cost EMI की सुविधा भी दी जाती है। No cost EMI में customer ब्याज नहीं देना पड़ता है, सिर्फ principal amount pay करना होता है।

emi full form in hindi

Factors affecting EMI

मूलधन (Principal) –  मूलधन loan की पूरी राशि या product का कुल मूल्य होता है, जिस पर ब्याज दिया जाता है।

ब्याज (Interest) – ब्याज एक निश्चित दर पर moneylender द्वारा principal amount पर लगाया जाता है।

समयावधि (Tenure of loan) – यह loan को interest के साथ वापिस करने का time होता है।

EMI की गणना flat interest rate या फिर diminishing balance interest rate पर की जा सकती है।

Flat Interest Rate – Flat interest rate से EMI की गणना करते समय पूरे principal amount पर interest की गणना की जाती है। इसमें इस बात को अनदेखा किया जाता है कि समय के साथ मूल राशि घट रही है।

ह्रासमान शेष ब्याज दर विधि (Diminishing Balance Interest Rate) – इस विधि से  EMI की गणना करते समय प्रथम महीने में पूरे मूलधन पर ब्याज दिया जाता है, जबकि बाकी सभी महीनों में सिर्फ बची हुई मूल राशि पर ब्याज लगाया जाता है।

Arvind Patel

Follow us on other platforms too. Stay Connected!

Leave a Comment