IT का Full form क्या है – IT Full Form in Hindi

IT शब्द देखने मे जितना संक्षिप्त तथा सूक्ष्म लगता है, इसके अर्थ एवं मायने उतने ही गूढ़ एवं विस्तृत है। वैसे तो इस संक्षिप्त शब्द के अनेकों अर्थ होते है, लेकिन IT शब्द का प्रयोग हम ज्यादातर तकनीकी विषय पर हो रही चर्चाओं तथा मुद्दो में सुनते है। आज के बदलते इस युग मे तकनीक प्रत्येक दिन कोई ना कोई नया बदलाव दुनिया के समक्ष प्रकट कर रही है। जिसके चलते हम नित नये नये तथ्यो, आविष्कारो तथा जानकारियों से अवगत हो रहे हैं।

वर्तमान समय मे तीव्र गति से हो रहे तकनीकों बदलावों से खुद को परिचित रखना जनमानस की जरूरत बन गई है। समाज के इस रूप को ध्यान में रखते हुये हमे इसके बारे में विस्तार से जानकारी होना आवश्यक हो गया है। इस आर्टिकल में हम IT के मुख्य full from के साथ उसके अन्य स्थानों पर अलग अलग अर्थ तथा प्रयोगो व उससे संबंधित अन्य मुद्दों पर भी चर्चा करेंगे तथा इसको विस्तार से समझने की कोशिश करेंगे।

it full form in hindi

IT का Full form

IT जैसे संक्षिप्त शब्द (Abbreviation) का प्रयोग तकनीकी क्षेत्र में सर्वाधिक होता है। यहाँ IT का Fullform “INFORMATION TECHNOLOGY” होता है। जिसे हिन्दी भाषा में “सूचना प्रौद्योगिकी” के नाम से जाना जाता है। वर्तमान समय में देश को दुनिया से जोड़ने के लिये जो Information तथा Technology का प्रयोग हो रहा है, वह सभी IT की देन है। इसके अंतर्गत समस्त Technical साधन जैसे  Computer, Internet, Website, Fax, Email तथा E-Commerce सभी समाहित है। सूचना प्रौद्योगिकी के मामले में भारत देश का बैंगलूर शहर अग्रणी है। जिसको “सिलिकॉन वैली” के नाम से जाना जाता है।

IT तकनीकी का एक ऐसा क्षेत्र है, जिसमें Hardware अथवा Software का प्रयोग करके Electronic Data एवं Information को Create, Process, Store, Secure तथा Exchange किया जाता है। सूचना प्रौद्योगिकी (IT) का क्षेत्र बेहद विस्तृत है। इसके अंतर्गत Software Development,  Data management, Information security, Networking,  Software design, Web development, Database design, Web design जैसे महत्वपूर्ण विभाग शामिल है। किसी भी देश के विकास में IT कितना महत्वपूर्ण हो सकता है, जापान इसका सबसे बड़ा उदाहरण है।

IT के उपयोग तथा फायदे

वर्तमान समय मे IT मानव जीवन के किसी भी पहलू से अछूता नही है। एक सामान्य नागरिक के जीवन मे इसके बड़े सारे उपयोग तथा फायदे है। जिसकी मदद से वह अपना जीवन सरल तथा आरामदायक बना रहा है। IT के फायदे तथा उपयोग को अलग अलग क्षेत्रों में आसानी से देखा जा सकता है।

1)  शिक्षा

उचित शिक्षा वर्तमान समय की मूलभूत जरूरतों में से एक हैं। भारत जैसे देश मे जहाँ रूढ़िवादी परम्परायो को लंबे समय तक अपनाया जाता है। IT की मदद से Education System में काफ़ी बदलाव देखने को मिला है। Students Digital माध्यम से ज्ञान प्राप्त करने लगे है। Videos तथा Graphics की मदद से बच्चो को महत्वपूर्ण विषय समझाये तथा सिखलाये जा रहे है। जिससे शिक्षा पहले की तुलना में ज्यादा रोचक तथा प्रभावशाली हो गई है।

2) Security

रोजाना हो रहे घोटालो तथा Fraud के कारण लोग खुद को असुरक्षित महसूस करने लगे है। इन समस्याओं से लोगों को भारी मात्रा में नुकसान झेलना पड़ता है। Information Technology के आ जाने से लोग अपने Personal Data को आसानी से सुरक्षित कर सकते है। Banking तथा Online Transaction के दौरान हो रहे घाटों से IT की मदद से बचा जा सकता हैं।

3)  व्यापार

Information Technology ने व्यापार को एक नई दिशा प्रदान कर दी हैं। इससे व्यापार को एक विस्तृत लक्ष्य तथा नये आयामो को प्राप्त करने की संभावना उत्पन्न हुई है। वस्तुओं की Online प्राप्ति तथा उनके Digital रूप में होने वाले भुगतान के माध्यम से IT ने व्यापार को दुनिया के एक बड़े हिस्से से जोड़ दिया है।

4) मनोरंजन

  मोबाइल फ़ोन तथा कंप्यूटर Information Technology की प्रमुख देन हैं। वर्तमान समय मे लोगों का इसके प्रति बढ़ता लगाव तथा रुझान आश्चर्यचकित करने वाला है। लेकिन इसके कारण को समझा जाये तो हम पाते है, कि वर्तमान में मोबाइल तथा कंप्यूटर लोगो के मनोरंजन के लिये सर्वाधिक प्रयोग किये जाने वाले उपकरण है। Games, Videos, Movies के माध्यम से लोग इन Device पर घंटो अपना मनोरंजन करते है।

२) Income Tax

IT शब्द का प्रयोग Information Technology के बाद “Income Tax” के लिए ज्यादा होता है।

Income tax को हिंदी भाषा मे “आय कर” कहते है। देश मे रहने वाले प्रत्येक नागरिक को एक Fixed आय से अधिक, आय होने पर सरकार को एक निश्चित मात्रा में कर चुकाना पड़ता है। सरकार देश के नागरिकों से यह टैक्स, उसके द्वारा लोगो को दी जानी वाली सुविधाओं के बदले में वसूलता है।

भारत देश मे नागरिकों से मुख्यतः दो प्रकार के Tax वसूले जाते है।

1) प्रयत्क्ष कर (Direct Tax) यह कर सरकार लोगो की आय से एक निश्चित दर से प्राप्त करता है। यह कर लोगो की आय का एक छोटा हिस्सा होता है।

2) परोक्ष कर (Indirect Tax ) यह कर नागरिकों द्वारा वस्तु तथा सेवाओ के उपभोग करने पर वसूला जाता है। चूंकि Indirect Tax वस्तु तथा सेवाओं के मूल्य के साथ पहले से ही जुड़ा होता है, इसलिए करदाता को अलग से अन्य कोई कर नही चुकाना पड़ता।

Income Tax प्रत्येक व्यक्ति की आय के आकार के अनुरूप अलग अलग दर से लगता है। यह दर व्यक्ति की सालाना कुल आय का एक निश्चित प्रतिशत होता है। जिसकी सूची निम्न है।

Income                                 Rate

1) 2.5 लाख ₹ से कम         कोई टैक्स नहीं

2) 2.5 से 5 लाख ₹ तक           5%

3) 5 से 10 लाख ₹ तक            20%

4)10 लाख रुपए से अधिक        30%

इन दोनों के अलावा भी IT Abbreviation का प्रयोग अन्य कई स्थानों पर किया जाता है। लोग अपनी सुविधा के लिए इसको कई तरह से प्रयोग करते है, जिसमें से कुछ निम्न है।

1) Information Theory

2) International Trade

3) Industrial Technology

4) International Terrorism

5) Internet Tracking

Arvind Patel

Follow us on other platforms too. Stay Connected!

Leave a Comment