जयपुर की जनसंख्या कितनी है 2020 ? Jaipur ki jansankhya kitni hai

2011 की जनगणना के अनुसार राजस्थान के जयपुर शहर की कुल आबादी 30 लाख 46 हजार के आसपास थी। आबादी के आधार पर जयपुर शहर भारत का दसवां सबसे अधिक आबादी वाला शहर था।

1727 इसवीं में  राजा जय सिंह द्वितीय द्वारा बसाया गया जयपुर शहर 467 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। क्षेत्रफल के आधार पर यह राजस्थान का सबसे बड़ा शहर है। जयपुर के क्षेत्रफल की तुलना में यहां के जनसंख्या घनत्व को देखे तो जयपुर का घनत्व 6532 प्रति वर्ग किलोमीटर हैं।

jaipur ki jansankhya kitni hai

2011 के आंकड़ो के अनुसार जयपुर शहर में कई अलग-अलग धर्मों के लोग रहते हैं। इसके अनुसार यहां 77.9% लोग हिंदू धर्म के मानने वाले तथा 18.6% लोग इस्लाम धर्म के मानने वाले रहते हैं। वहीं, जयपुर शहर में 2.4% लोग जैन धर्म के मानने वाले हैं। इसके अलावा 1.2% लोग ऐसे हैं जो अलग-अलग धर्मों ने विश्वास करते हैं।

1727 ईसवी में जयपुर शहर की स्थापना की गई थी। तब इसके बाद पहली बार 1881 में जयपुर शहर में जनगणना की गई थी। उसके अनुसार जयपुर की आबादी 1,42,600 थी। उसके बाद नियमित रूप से प्रत्येक 10 साल पर यहां जनगणना की जाती रही है। 2001 में जयपुर शहर की आबादी 23,22,575 थी। तब यहां जनसंख्या वृद्धि दर 53% दर्ज की गई थी।

2011 में जयपुर की जनसंख्या वृद्धि दर में गिरावट दर्ज की गई थी। तब ये 53% से गिरकर 32.23% पर आ गयी थी। अनुमान के मुताबिक आने वाले वर्षों में भी जयपुर में जनसंख्या वृद्धि दर में गिरावट ही दर्ज की जाएगी।

जयपुर की वर्तमान आबादी की बात करें तो United Nations के अनुमानित आंकड़ों के अनुसार 2020 में जयपुर की आबादी 39 लाख 99 हजार तक पहुंच चुकी है। 2018 के 2.76% के मुकाबले 2020 में जयपुर में जनसंख्या वृद्धि दर 2.54% रही है। अनुमान लगाया जा रहा है कि आने वाले वर्षों में भी जयपुर में जनसंख्या वृद्धि दर अनुमानित रूप से इतनी ही रहेगी। अनुमान के मुताबिक 2035 तक जयपुर की आबादी 55 लाख तक पहुंच जाएगी। तब यहां जनसंख्या वृद्धि दर 2.12% रहेगी।

जयपुर शहर में बोली जाने वाली भाषा की बात करें तो जयपुर की आधिकारिक भाषा हिंदी है। जबकि द्वितीय राजकीय भाषा के रूप में अंग्रेजी को मान्यता दी गई है। इसके अलावा यहां बड़ी संख्या में लोग बोलचाल में राजस्थान की स्थानीय भाषा ढूँढरी का भी उपयोग करते हैं।

जयपुर शहर भारत के सबसे ऐतिहासिक स्थलों में से एक गिना जाता है। यही कारण है कि जयपुर को UNESCO द्वारा वर्ल्ड हेरीटेज साइट भी घोषित किया जा चुका है। 2019 में जयपुर को यूनेस्को द्वारा World Heritage site का दर्जा दिया गया था।

One Response

  1. Deepak Kumar Sharma May 23, 2020

Leave a Reply