ललितपुर जिले में कितने गाँव हैं।

ललितपुर जिले में 752 गाँव हैं। ललितपुर जिले के कुल 752 गाँवों में से केवल 61 निर्जन गाँव हैं। अन्य 691 गाँव बसे हुए हैं और उनमें लोगों का निवास है। ललितपुर जिले की तहसीलों में महरोनी तहसील में सबसे अधिक 266 बसे हुए गाँव हैं, जबकि तालबेहट तहसील में सबसे कम 162 बसे हुए गाँव हैं। 2011 की जनगणना के अनुसार ललितपुर जिले में कुल मिलाकर 222,094 परिवार (या घर) रेकॉर्ड किए गए थे। यह उत्तर प्रदेश राज्य में कुल परिवारों का 0.7 प्रतिशत है। ललितपुर जिले में परिवारों में औसत व्यक्तियों की संख्या या घरों का औसत आकार 5.5 व्यक्तियों का है।

lalitpur jile me kitne gaon hai

ललितपुर जिला : महत्वपूर्ण तथ्य

  • ललितपुर जिला राज्य में जनसंख्या की दृष्टि से 67 वें स्थान पर है।
  • ललितपुर जिले में शहरी आबादी जिले की कुल आबादी का 14.36 प्रतिशत है जो उत्तर प्रदेश राज्य के 22.27 प्रतिशत शहरी आबादी के आंकड़े से कम है।
  • ललितपुर जिले में जनसंख्या घनत्व 242 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी रेकॉर्ड किया गया है, जो उत्तर प्रदेश राज्य के औसत 829 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी से बहुत कम है।
  • ललितपुर जिला 63.5 प्रतिशत साक्षरता के साथ राज्य में साक्षरता के मामले में 54 वें स्थान पर है। 2011 जनगणना के अनुसार उत्तर प्रदेश राज्य की साक्षरता औसत 67.7 प्रतिशत है।
  • ललितपुर जिले की दशकीय वृद्धि दर 24.9 प्रतिशत रही जो उत्तर प्रदेश राज्य के औसत दशकीय वृद्धि दर 2 प्रतिशत से अधिक थी।
  • इस जिले का क्षेत्रफल 5039.00 वर्ग किमी है।

ललितपुर जिले का इतिहास बहुत पुराना है। इसका उल्लेख प्राचीन विष्णु पुराण, वराह पुराण और यज्ञ पुराण में मिलता है। इन पुराणों के अलावा ललितपुर क्षेत्र का उल्लेख रामायण और महाभारत जैसे ग्रन्थों में भी मिलता है। ऐसा माना जाता है कि राजा सुमेर सिंह, जो दक्खन से थे, ने ललितपुर शहर की स्थापना की थी और इसका नाम अपनी पत्नी ललिता के नाम पर रखा। कुछ समय तह यह क्षेत्र गोंड शासन के हाथों में भी था। किन्तु ललितपुर का क्षेत्र गोबिंद बुंदेला और उनके बेटे रुद्र प्रताप द्वारा सोलहवीं शताब्दी में ले लिया गया। बाद में इसे 17वीं शताब्दी में स्थापित चँदेरी की बुंदेल रियासत में शामिल कर लिया गया।

1891 में ललितपुर और झाँसी जिलों को मिला दिया गया था। किन्तु प्रशासनिक सुविधा के लिए 1 मार्च 1974 के दिन फिर से ललितपुर को एक अलग जिला बना दिया गया। ललितपुर जिला बुंदेलखंड का अहम हिस्सा है और मध्य प्रदेश की सीमा से लगा हुआ है। ललितपुर जिले में देवगढ़ का सुप्रसिद्ध दशावतार मंदिर स्थित है जो बेहतरीन स्थापत्य कला युक्त विष्णु मंदिर के लिए विश्व विख्यात है। यहाँ जैन मंदिरों की भी प्रमुखता है।

Leave a Reply