मध्य प्रदेश का सबसे छोटा गांव कौन सा है ? MP Smallest Village

Heart of India के नाम से जाना जाने वाला राज्य मध्य प्रदेश 52 ज़िलों में बंटा हुआ है। ये ज़िले विभिन्न आधार पर बंटते हुए तहसील के आधार पर भी बंटे हुए है। इसी में भोपाल ज़िले के बैरसिया तहसील के तहत आने वाला एक गांव मध्य प्रदेश का सबसे छोटा गांव है। इस का नाम सगोनि खुर्द है।

2011 की जनगणना के अनुसार Sagoni Khurd नाम के इस गांव में केवल 1 ही परिवार रहता है। इस परिवार में  केवल 2 लोग हैं। दोनो ही पुरुष हैं। केवल 1 ही परिवार और 2 लोग के रहने के कारण ही 2011 की जनगणना में सगोनि खुर्द गांव को मध्य प्रदेश का सबसे छोटा गांव घोषित किया गया था।

madhya pradesh ka sabse chhota gaon

2 लोगों की आबादी वाले सगोनि खुर्द गांव की साक्षरता दर 50 प्रतिशत है। यानी कि इस मुहल्ले में रह रहे 2 लोगों में से केवल एक ही व्यक्ति शैक्षणिक योग्यता रखता है। सगोनि खुर्द तथा इसके आसपास रहने वाले गांव के सभी लोगों की आय का प्रमुख साधन खेती बाड़ी ही है। इस कारण इस गांव के लोगों समेत आसपास के अधिक्तर लोग  जीवन यापन के लिए खेती करते हैं या तो अन्य लोगों के खेतों में मजदूरी करते हैं।

आंकड़ो के अनुसार सगोनि खुर्द गांव में विशेष रूप से किसी सरकारी स्कूल या सरकारी अस्पताल इत्यादि की व्यवस्था नही है। इसकी बड़ी वजह यह है कि इस गांव की आबादी बेहद ही कम है। इसके अलावा इस गांव के आसपास वाले गांव में यह सुविधाएं उपलब्ध है। इस कारण अस्पताल इत्यादि की आवश्यकता पड़ने पर इस गांव के लोग भी पड़ोस के ही गांव में जाते हैं।

Leave a Reply