भारत की महिला और बाल विकास मंत्री कौन है 2019

भारत की महिला और बाल विकास मंत्री श्रीमती स्मृति ज़ुबिन ईरानी हैं। वे भारत सरकार के मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री हैं और भारतीय जनता पार्टी की सांसद हैं। श्री नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री के रूप में दूसरे कार्यकाल में स्मृति ईरानी केंद्रीय मंत्री हैं। स्मृति ईरानी जी को महिला और बाल विकास मंत्रालय के साथ-साथ केंद्र सरकार के कपड़ा मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार भी सौंपा गया है। इसलिए स्मृति ईरानी भारत सरकार में महिला और बाल विकास मंत्री के साथ-साथ कपड़ा मंत्री के पद पर भी कार्यरत हैं।

स्मृति ईरानी कब से भारत की महिला और बाल विकास मंत्री हैं ?

स्मृति ईरानी जी 31 मई 2019 से भारत की महिला और बाल विकास मंत्री के पद पर कार्यरत हैं। वे भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल में इस मंत्रालय की प्रमुख बनी हैं। श्रीमती स्मृति ईरानी को 30 मई 2019 को राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविन्द ने नई दिल्ली स्थित राष्ट्रपति भवन में शपथ ग्रहण समारोह में पद और गोपनियता की शपथ दिलाई थी।

mahila bal vikas mantri

स्मृति ईरानी जी के 31 मई 2019 को महिला और बाल विकास मंत्री बनने से पहले श्रीमती मनेका गांधी जी इस मंत्रालय का कार्यभार देख रहीं थीं। जुलाई 2016 में स्मृति ईरानी जी को कपड़ा मंत्रालय का कार्यभार सौंपा गया था। उससे पहले वे भारत सरकार में मानव संसाधन विकास मंत्री थीं। हालांकि मानव संसाधन विकास मंत्री के पद पर रहते हुए स्मृति ईरानी जी कुछ विवादों में भी घिरीं थी। जिसके बाद उन्हे मानव संसाधन विकास मंत्री के बदले कपड़ा मंत्रालय का कार्यभार दिया गया था।

महिला और बाल विकास मंत्रालय में स्मृति ईरानी जी के केंद्रीय मंत्री रहने के साथ-साथ एक राज्य मंत्री भी हैं। वे नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री के रूप में पहले कार्यकाल में कुछ समय के लिए सूचना और प्रसारण मंत्री भी रह चुकी हैं। 

भारत के वर्तमान महिला और बाल विकास राज्य मंत्री मंत्री कौन हैं ?

भारत सरकार में केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्री के अलावा एक राज्य मंत्री (Minister of State) भी बनाई गई हैं। वर्तमान 2019 में सुश्री देबाश्री चौधरी महिला और बाल विकास मंत्रालय में राज्य मंत्री हैं।

महिला और बाल विकास मंत्रालय की स्थिति

भारत सरकार का महिला और बाल विकास मंत्रालय 30 जनवरी, 2006 से एक अलग मंत्रालय के रूप में अस्तित्व में आया।  इससे पहले 1985 के बाद से यह मानव संसाधन विकास मंत्रालय के तहत एक विभाग के रूप में कार्य कर रहा था।  इस मंत्रालय का उद्देश्य महिलाओं को हिंसा और भेदभाव से मुक्त वातावरण में पुरुषों के साथ विकास में समान भागीदार के रूप में तथा गरिमा के साथ रहने वाली और योगदान देने वाली के रूप में स्थापित करना है।

महिला और बाल विकास मंत्रालय का व्यापक उद्देश्य महिलाओं और बच्चों का समग्र विकास करना है। भारत के हर क्षेत्रों में महिलाओं और बच्चों की उन्नति के लिए एक नोडल मंत्रालय के रूप में यह कार्य करता है। उनके संबंध में योजनाओं, नीतियों और कार्यक्रमों को तैयार करना और उनके क्रियान्वयन की व्यवस्था करना भी इस मंत्रालय का ही कार्य है।

वर्तमान 2019 में भारत सरकार के महिला और बाल विकास मंत्रालय का नेतृत्व माननीय मंत्री श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी द्वारा किया जाता है। सुश्री देबाश्री चौधरी इस मंत्रालय में राज्य मंत्री हैं और इस मंत्रालय की गतिविधियाँ कई स्वायत्त संस्थाओं के माध्यम से संचालित होती हैं। महिला और बाल विकास मंत्रालय के अंतर्गत आने वाली संस्थाएं/संगठन ये हैं-

  1. राष्ट्रीय जन सहयोग और बाल विकास संस्थान (NIPCCD)
  2. राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW)
  3. राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR)
  4. केंद्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकरण (CARA)
  5. केंद्रीय समाज कल्याण बोर्ड (CSWB)
  6. राष्ट्रीय महिला कोष (RMK)

भारत के महिला और बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी का परिचय

  • नाम: श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी
  • जन्म: 23 मार्च 1976, नई दिल्ली
  • पार्टी: भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी)
  • निवास: नई दिल्ली                                                                                                      
  • सांसद: अमेठी, उत्तर प्रदेश (लोकसभा सांसद)                             
  • माता: श्रीमती शिबानी बागची
  • पिता: श्री अजय कुमार मल्होत्रा                       
  • पति: श्री ज़ुबिन ईरानी (विवाह 2001)                                                                   
  • पुत्र/पुत्री: 2 (एक पुत्र-एक पुत्री)

स्मृति ईरानी ने 2019 में हुए 17वीं लोकसभा के चुनावों में उत्तर प्रदेश की अमेठी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा था और काँग्रेस के दिग्गज राहुल गांधी को भारी मतों से हराकर काफी प्रसिद्धि हासिल की। अमेठी लोकसभा सीट पर राहुल गांधी पिछले कई चुनावों से जीत हासिल करते आ रहे थे और अमेठी की लोकसभा सीट को काँग्रेस पार्टी का गढ़ माना जाता था। लेकिन स्मृति ईरानी की अमेठी में लोकसभा जीत ने इस क्षेत्र में बीजेपी की पहुँच बना दी है।

स्मृति ईरानी भारतीय जनता पार्टी की गुजरात से राज्य सभा सांसद भी रह चुकी हैं। अपने carrier के शुरुआती दिनों में स्मृति ईरानी अभिनय से भी जुड़ीं थीं और लोकप्रिय धारावाहिक “क्योंकि सास भी कभी बहू थी” में मुख्य किरदार की भूमिका में थीं। स्मृति ईरानी भारतीय जनता पार्टी से 2003 में जुड़ीं थीं।

Leave a Reply