माइक्रोफोन की खोज किसने की थी।

माइक्रोफोन या माइक के नाम से जाना जाने वाला डिवाइस, ध्वनि को इलैक्ट्रिकल सिग्नल में बदलने का काम करता है। Mic या Mike एक Input device होता है जिससे आवाज को Amplify करने के साथ-साथ रेकॉर्ड भी किया जा सकता है। माइक्रोफोन की खोज, मनोरंजन और विज्ञान के क्षेत्र में बहुत कारगर साबित हुई है। चुनावों में नेताओं के भाषण बिना माइक्रोफोन के संभव नहीं हैं। यह माइक्रोफोन ही है जिसमें से रेकॉर्ड होकर फिल्मों के गाने हम तक पहुँचते हैं। चाहे कम्प्युटर हों, मोबाइल हों, या अन्तरिक्ष में जाने वाले अंतरिक्ष यात्री, माइक्रोफोन का उपयोग हर जगह होता है। लेकिन किसने माइक्रोफोन की खोज की और दुनिया को अभिव्यक्ति का एक नया और बेहतर तरीका दिया? आइए जानते हैं माइक्रोफोन की खोज किसने की और इसका इतिहास कितना पुराना है?

microphone ki khoj kisne ki

माइक्रोफोन की खोज किसने और कब की -“माइक्रोफोन” शब्द पहली बार 1827 में सर चार्ल्स व्हीटस्टोन ने उपयोग किया था। लेकिन इसका आविष्कार उस समय तक नहीं हो सका था। माइक्रोफोन का आविष्कार एमिल बर्लिनर (Emile Berliner) ने 1876 में किया था। जर्मन मूल के अमेरिकी आविष्कारक बर्लिनर ने जिस माइक्रोफोन का आविष्कार किया था वह कार्बन-बटन माइक्रोफोन था। एमिल बर्लिनर का जन्म हनोवर, जर्मनी में 20 मई, 1851 को हुआ था। 19 वर्ष की उम्र में बर्लिनर को अमेरिका में जाना पड़ा। अमेरिका की कूपर इंस्टीट्यूट से भौतिकी का अध्ययन करने वाले इस वैज्ञानिक पर टेलीफ़ोन के आविष्कार का गहरा असर पड़ा था। जब अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने U.S. Centennial Exposition में पहला टेलीफोन पेश किया तो एमिल बर्लिनर उस से बहुत प्रभावित हुए। उन्होने टेलीफ़ोन में बदलाव कर के सुधार करने का प्रयत्न भी किया। टेलीफ़ोन को और बेहतर बनाने के उद्देश्य से ही बर्लिनर ने माइक्रोफोन का आविष्कार किया। माइक्रोफोन का आविष्कार करने के समय एमिल बर्लिनर , प्रसिद्ध आविष्कारक थॉमस एडिसन के साथ काम करते थे।

इस प्रकार, माइक्रोफोन का आविष्कार, टेलीफोन वॉइस ट्रांसमीटर के रूप में हुआ। लेकिन एमिल बर्लिनर का माइक्रोफोन इतना महत्वपूर्ण था कि बेल टेलीफोन कंपनी ने इसके पैटंट को $ 50,000 में खरीद लिया था। एमिल बर्लिनर ने इसके अलावा ग्रामोफोन का आविष्कार भी किया है जिससे फ्लैट रिकॉर्ड को बजाया जा सकता था। उनके द्वारा बनाए गए ग्रामोफोने के कारण ही आधुनिक संगीत उद्योग का जन्म हुआ है।

इलेक्ट्रेट माइक्रोफोन का आविष्कार कब हुआ था -: बेल लेबोरेटरीज के जेम्स वेस्ट(James West)  और गेरहार्ड सेसलर(Gerhard Sessler) ने इलेक्ट्रेट माइक्रोफोन का आविष्कार 1964 में किया था। इलेक्ट्रेट माइक्रोफोन कम लागत के साथ-साथ छोटे साइज़ के कारण अधिक उपयोगी साबित हुआ है। इसमें आवाज़ की quality ज्यादा स्पष्ट रहती है और यह अधिक टिकाऊ भी है।  इसके आविष्कार ने माइक्रोफोन की दुनिया में क्रांतिकारी परिवर्तन ला दिया है। इलेक्ट्रेट माइक्रोफोन का उत्पादन सालाना 100 करोड़ से अधिक होता है।

माइक्रोफोन को और बेहतर बनाने के संबंध में एक अन्य उपलब्धि 2010 में हुई जब Eigenmike को लॉंच किया गया। इसकी खासियत यह है कि यह कई उच्च गुणवत्ता वाले माइक्रोफोन से बना होता है, जो कि एक गोलाकार सतह पर लगे होते है।  इसमें ध्वनि को विभिन्न दिशाओं से कैप्चर किया जा सकता है। इससे voice-editing के समय आवाज को विभिन्न तरीकों से नियंत्रित किया जा सकता है।

Finders यदि आपको यह article पसंद आए हो कि माइक्रोफोन की खोज किसने की, Who invented Microphone? और आप इस लेख के माध्यम से अन्य information प्राप्त करना चाहते हैं तो आप Find For GK की टीम से पूछ सकते हैं हमें माइक्रोफोन की खोज किसने की लेख के माध्यम से आप के question के answer देने में खुशी होगी माइक्रोफोन की खोज किसने की लेख पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद

Leave a Reply