भारतीय रिज़र्व बैंक का पुराना नाम क्या है।

भारतीय रिज़र्व बैंक भारत का केंद्रीय ( Central ) बैंक है। इसकी स्थापना 1 अप्रैल 1935 को Hilton Young Commission की अनुसंशा पर  की गई थी। इस कमीशन को Royal Commission On Indian Currency & Finance  के नाम से भी जाना जाता है।  इसकी स्थापना Reserve Bank Of India Act, 1934 के अनुसार की गई थी। इस बैंक की स्थापना का मुख्य उद्देश्य भारत में Economy System को संचालित करना था। पहले विश्व युद्ध के बाद देश की आर्थिक स्तिथि पूरी तरह डांवाडोल हो गयी थी। इसी के मद्देनजर इस बैंक की स्थापना हुई।  इस बैंक का राष्ट्रीयकरण 1 जनवरी 1949 में हुआ था। तब से इस बैंक का पूरा नियंत्रण भारत सरकार के हाथों में ही है।

reserve bank ka purna naam kya hai

इतिहास को देखें तो पता चलता है कि समय के साथ अधिक्तर संस्थानो के नाम बदलते रहे हैं। इसी तरह भारत में मौजूदा दौर में कार्यरत कई बड़ें बैंकों का नाम भी समय से साथ बदल चुका हैं। अब सवाल है कि क्या रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया ( RBI ) का भी कोई पुराना नाम था? इस सवाल का जवाब यह है कि Reserve Bank Of India का कोई भी पुराना नाम नही है। RBI अस्तित्व में आने के बाद से ही वर्तमान नाम से ही जाना जाता था। इस बैंक का नियंत्रण ज़रूर पहले अंग्रेज़ी हुकूमत के हाथ में था। तब भी यह Reserve Bank Of India के ही नाम से जाना जाता था।

अगर आप इंटरनेट पर RBI का पुराना नाम खोजने की कोशिश करेंगे तो आपको कुछ Sites पर  RBI के पुराने नाम के जवाब में The Imperial Bank of India ( IBI ) दिखाई देगा। लेकिन हम आपको बता दें कि वह जवाब पूरी तरह गलत हैं। क्यों कि Imperial Bank of India ( IBI )  State Bank Of India ( SBI ) का पुराना नाम है, न कि RBI का।

RBI Board Of Director

RBI भारतीय अर्थव्यवस्था में खासा महत्व रखता है। इसके अलावा भारत सरकार की अधिक्तर वित्तीय नीति पूरी तरह RBI की स्तिथि पर ही निर्भर करता है। RBI का नियंत्रण Central Board of Directors के पास होता है। इस बोर्ड के Director की नियुक्ति भारत सरकार द्वारा की जाती है। इनका कार्यकाल 4 साल का होता है।

RBI के Central Board of Director में कुल 21 सदस्य होते हैं। इसके Board सदस्यों में 1 Governor, 4 Deputy Governor, भारत के वित्त मंत्री के 2 प्रतिनिधि, RBI के मुंबई, कोलकाता, चेन्नई और दिल्ली स्तिथ मुख्यालय  को Represent करने के लिए 4 Dorectors तथा भारत सरकार द्वारा नामित 10 सदस्य शामिल होते हैं। इन सब के प्रमुख Governor होते हैं।

RBI से जुड़े रोचक तथ्य

RBI के बारे में एक रोचक तथ्य यह भी है कि RBI भारत का केंद्रीय बैंक होने के साथ साथ अप्रैल, 1947 तक बर्मा का भी केंद्रीय बैंक रहा था। Indian Union से 1937 में अलग होने के बावजूद RBI बर्मा का केंद्रीय बैंक बना रहा था। हालांकि बर्मा पर जापान द्वारा अधिकार जमाने के बाद 1942 से 1945 तक RBI बर्मा का केंद्रीय बैंक नही रह था। RBI भारत – पाकिस्तान के अलग होने के बाद भी जून 1948 तक, State Bank Of Pakistan के स्थापित होने से पहले तक पाकिस्तान का भी Central Bank रहा था।

Leave a Reply