SIM का आविष्कार किसने किया इसका Full Form क्या होता है।।

सिम कार्ड आधुनिक जीवन शैली का अभिन्न हिस्सा बन चुका है। सिम कार्ड देखने में एक छोटी सी पीतल की चिप होती है। लेकिन ये सिम कार्ड ही है जो हमें एक दूसरे से संपर्क करने के काम आता है। आज दुनिया में करोड़ों सिम कार्ड एक्टिव हैं। सबसे पहले सिम कार्ड का आविष्कार एक जर्मन कंपनी जिसेक एंड डेविएंट (Giesecke & Devrient) ने 1991 में किया था। सबसे पहले सिम कार्ड की तकनीकी विशेषताओं का ब्यौरा  यूरोपीय दूरसंचार मानक संस्थान (European Telecommunications Standards Institute )ने  तय किया था।

sim ka aviskar kisne aur kab kiya tha

Giesecke & Devrient कंपनी जर्मनी के म्यूनिख (Munich) में स्थित है जिसे बैंकनोट प्रतिभूति और स्मार्ट कार्ड बनाने में महारत हासिल है। विभिन्न यूरोपीय देशों में जीएसएम सेवा प्रदान करने के उद्देश्य से सिम कार्ड लॉंच किया गया था। उस वक़्त यूरोप ने GSM (Global System for Mobile Networks) प्रोटोकॉल को लागू कर लिया था। इस प्रोटोकॉल से कोई भी व्यक्ति न केवल अपने चुने हुए नेटवर्क से कनेक्ट कर सकता था बल्कि इसके द्वारा अन्य नेटवर्क पर मौजूद व्यक्तियों के नंबर पर भी फोन हो सकता था।

दुनिया की पहली GSM phone call -जिसेक एंड डेविएंट ने 1991 में जब सिम का आविष्कार किया था तब केवल 300 सिम कार्ड ही बनाए थे जिन्हे फ़िनलैंड की वायरलेस नेटवर्क ऑपरेटर कंपनी रेडिओलिंजा (Radiolinja) को बेचा गया था। इस रेडिओलिंजा कंपनी के नेटवर्क पर ही 1991 में दुनिया का पहला जीएसएम (first GSM phone call) फोन कॉल किया गया था।  फ़िनलैंड के तत्कालीन प्रधानमंत्री, हर्री होल्केरी ने 1 जुलाई 1991 को हेलसिंकी, फ़िनलैंड में दुनिया का पहला GSM कॉल किया था।

1991 में अपनी शुरुआत के बाद से ही सिम कार्ड में काफी बदलाव आए हैं। पहले यह क्रेडिट कार्ड के आकार का हुआ करता था। लेकिन अब अत्याधुनिक तकनीक के द्वारा डिज़ाइन किए गए नैनो-सिम का आकार बहुत छोटा हो गया है।

  • 1991: दुनिया की पहली GSM कॉल की गयी। आज रोजाना करोड़ों फोन काल्स की जाती हैं
  • 1992: 9 नवंबर 1992 को, नोकिया ने दुनिया का पहला व्यावसायिक जीएसएम डिजिटल मोबाइल फोन – नोकिया 1011 बाज़ार       में पेश किया
  • 1993: एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहली बार SMS Message भेजा गया
  • 2012: पहली बार नैनो सिम कार्ड पेश किया गया।
  • 2013: पहला eSIM लॉंच किया गया।

सिम कार्ड का फुल फॉर्म

सिम कार्ड सब्सक्राइबर आइडेंटिटी मॉड्यूल या Subscriber Identity Module (SIM) का शॉर्ट फॉर्म होता है। यह सिम कार्ड का उपयोग करने वाले ग्राहक की पहचान करने के साथ-साथ नेटवर्क पर मोबाइल फोन के माध्यम से बात करने के काम आता है।

सिम कार्ड का उपयोग

सिम कार्ड की दो प्राथमिक भूमिकाएं हैं।

  1. पहचान: सभी सिम कार्डों में एक अलग सीरियल नंबर होता है जो सिम कार्ड की पहचान करता है। इस संख्या के जरिये मोबाइल नेटवर्क अपने users की पहचान करते हैं।
  2. प्रमाणीकरण: मोबाइल नेटवर्क यह सुनिश्चित करने के लिए कि ग्राहक की पहचान वैध है, एक सुरक्षा तंत्र का उपयोग करते हैं जो नेटवर्क और सिम कार्ड के बीच बनता है।

इस प्रकार सिम कार्ड प्रमाणीकरण के लिए आवश्यक जानकारी स्टोर करते हैं और उपयोगकर्ता के फोन को नेटवर्क से कनेक्ट करने की अनुमति देते हैं। सीरियल नंबर की सहायता से ही हम सिम कार्ड को नए फोन में डालकर, बिना उस फोन को नेटवर्क पर दर्ज कराये, इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा IMSI (International Mobile Subscriber Identity) नंबर सभी सिम कार्ड में होता है। सिम कार्ड में कुछ मेमोरी भी होती है जिससे नाम और टेलीफोन नंबर स्टोर किया जा सकता है।

सिम कार्ड के प्रकार

1991 में सिम के आविष्कार के समय केवल एक ही तरह का सिम कार्ड हुआ करता था। सामान्यतः आजकल तीन तरह के सिम कार्ड प्रयोग होते हैं। ये हैं:

  1. Mini SIM Card 1996-जिसका आकार 25×15 मिमी होता है।
  2. Micro SIM card 2003- इसका आकार 15×12 मिमी होता है। इसमें सर्किट बोर्ड के चारों ओर की प्लास्टिक नहीं होती है।
  3. Nano SIM card 2012-इसका आकार 12.3×8 x0.67 मिमी होता है।

सिम कार्डों को दो अन्य प्रकार से भी बांटा जा सकता है- GSM और CDMA

eSIM क्या है?

Electronic SIM या Embedded SIM कार्ड को ई-सिम कहा जाता है जिसे अलग से नहीं खरीदा जाता। यह आपके फोन के अंदर एक छोटी चिप होती है जो सामान्य सिम कार्ड के बदले उपयोग की जाती है। किसी भी प्लास्टिक के या अन्य भौतिक सिम कार्ड की कोई आवश्यकता नहीं रहती है। इस प्रकार के eSIM पहले से ही मोबाइल में बने होते हैं। लेकिन इन्हे भी मोबाइल नेटवर्क से जोड़ने की आवश्यकता पड़ती है। फिलहाल सभी मोबाइल नेटवर्क इसे सपोर्ट नहीं करते हैं। eSIM कार्ड को मोबाइल से अलग नहीं किया जा सकता है। इसका आकार सामान्य सिम कार्ड की तुलना में कम है।

Finders अगर आपको यह article पसंद आया हूं कि SIM की खोज किसने की, Who invented SIM? और यदि आप सिम की खोज किसने की इस लेख के माध्यम से सिम के बारे में अन्य जानकारी चाहते हैं तो आप हमसे पूछ सकते हैं और सिम की खोज किसने की के लेख को अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें धन्यवाद

Arvind Patel

Follow us on other platforms too. Stay Connected!

Leave a Comment