वर्ष का सबसे छोटा दिन कौन-सा होता है।

अनेक खगोलीय घटनाओं के कारण पृथ्वी पर साल के प्रत्येक दिन सूर्य के उगने और डूबने में कुछ न कुछ अंतर होते रहते हैं। सामान्यतः यह अंतर प्रत्येक दिन कुछ सेकेंड से ले कर मिनट तक का होता है। इसी तरह आमतौर पर हम आप देखते हैं की सूर्य के डूबने और निकलने में अंतर इतना बढ़त जाता है की गर्मी के मौसम में दिन काफी बड़ा हो जाता है तथा रात छोटी हो जाती है। इसी तरह ठंड के मौसम में इसका उल्टा होता है। यानी दिन छोटा और रात बड़ा हो जाता हैं। यह सब विभिन्न खगोलीय घटनाओं के कारण ही होता है। इसी क्रम में एक ऐसा भी समय आता है की साल का एक दिन, अन्य दिनों की अपेक्षा सबसे बड़ा और एक दिन सबसे छोटा होता है।

saal ka sabse chota day konsa hota hai

अब इस प्रश्न के आधार पर बात करते हैं साल के सबसे छोटे दिन की। तो आपको बता दें की साल का सबसे छोटा दिन सामान्यतः 20 दिसंबर से ले कर 23 दिसंबर के बीच किसी एक दिन भी हो सकता हैं। सामान्यतः 21 दिसंबर ही साल का  सबसे छोटा दिन होता है। 21 दिसंबर के साल के सबसे छोटे दिन होने का मुख्य कारण कुछ खगोलीय घटनाए हैं। इस घटना को सामान्यतः कई अलग अलग नामों से जाना जाता है जैसे, इसे Winter Solstice या Hibernal Solstice कहते हैं। इसे Midwinter के नाम से भी जाना जाता है। आमतौर से इसे December Solstice भी कहा जाता है।

Winter Solstice या December Solstice

Winter Solstice ही वह घटना है जिस कारण ही साल का एक दिन, साल के अन्य दिनों की अपेक्षा सबसे छोटा होता हैं। इसी तरह June Solstice में साल का एक दिन, अन्य दिनों की अपेक्षा सब से बड़ा होता है। अब बात करते हैं की आखिर Winter Solstice क्या होता है। शीतकालीन आयनांत Winter Solstice का हिंदी नाम है। यह एक खगोलीय घटना हैं। Winter Solstice का मुख्य कारण यह है कि इस दिन सूर्य, मकर रेखा के सीधे ठीक ऊपर आ जाता है। जिस वजह से इस दिन उत्तरी गोलार्ध पर सबसे छोटा दिन होता है।

आपको बता दें की पृथ्वी अपने अक्ष पर लगभग 23° झुकी हुई है। इस कारण कुछ हिस्सों में सूर्य का प्रकाश अधिक होता है जो की उस हिस्से में गर्मी का कारण बनता है।तथा इसके विपरीत दिशा में सूर्य की रौशनी कम जाती है जिस कारण वहां कम गर्मी पड़ती है, या कहें की ठंडी पड़ती है। इसे आसान शब्दो में ऐसे समझ सकते हैं कि इस दिन पृथ्वी का उत्तरी ध्रुव सूर्य से काफी दूर झुक जाता है। आपको बता दें कि Winter Solstice की घटना पूरे विश्व में ही होती है।

साल के सबसे छोटे और साल के सबसे बड़े दिनों के अलावा साल में 2 दिन ऐसा भी आता है जब उस दिन , रात और दिन बिल्कुल बराबर हो जाता है। यानी कि उस दिन रात और दिन 12 – 12 घंटे का होता है। इस घटना को Vernal Equinox के नाम से जाना जाता है। इस दिन, रात और दिन के बराबर होने का कारण यह है कि उस दिन पृथ्वी का झुकाव बिल्कुल शून्य ( Zero ) होता है।

Leave a Reply