तेलंगाना का सबसे बड़ा शहर कौन सा है ?

जनसंख्या के आधार पर तेलंगाना का सबसे बड़ा शहर हैदराबाद है। यही नहीं  क्षेत्रफल (Area)  के आधार पर भी हैदराबाद तेलंगाना का सबसे बड़ा शहर है। तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद है। हैदराबाद अविभाजित आंध्र प्रदेश की राजधानी भी हुआ करता था। आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में विभाजन के पश्चात यह शहर तेलंगाना के हिस्से में आया है।

2011 की जनगणना के अनुसार हैदराबाद की जनसंख्या (Population)  68,09,970 है। population के हिसाब से यह भारत का चौथा सबसे बड़ा शहर है। जैसा कि हम पहले ही बता चुके हैं कि क्षेत्रफल (Area) के आधार पर भी तेलंगाना का सबसे बड़ा शहर हैदराबाद ही है। हैदराबाद का क्षेत्रफल 650 वर्ग किलोमीटर है।

हैदराबाद हुसैन सागर झील के लिए भी मशहूर है। हुसैन सागर झील में ही मोनोलिथिक बुद्धा का सबसे बड़ा स्टेचू है। इस स्टेचू का weight 450 टन के आसपास है। हैदराबाद को Artificial lake का शहर भी कहते हैं । इनमें से एक हुसैन सागर के विषय में आप पहले ही पढ़ चुके हैं। इसके अलावा उस्मान सागर एवं हिमायत सागर दो अन्य Artificial lake हैं ।

telangana ka sabse bada shahar

आप ने हाल ही में खबरों में कोहिनूर के विषय में काफी पढ़ा होगा, विश्व प्रसिद्ध कोहिनूर हीरा हैदराबाद शहर के पास ही हीरा की खदानों में पाया गया था। हैदराबाद की बात की जाए और हैदराबादी बिरयानी की बात ना की जाए ऐसा कभी हो ही नहीं सकता। यह वही मशहूर बिरयानी वाला हैदराबाद  शहर है।

हैदराबाद एक ऐतिहासिक अवलोकन

पुरातत्व वेदों के अनुसार हैदराबाद शहर का अस्तित्व 2000 साल से भी ज्यादा पुराना है। इतिहासकारों के अनुसार मौर्य साम्राज्य के महत्वपूर्ण शहरों में से एक यह शहर भी था। ऐसा माना जाता है कि मौर्य साम्राज्य के पतन के बाद यह शहर सातवाहन साम्राज्य के अंतर्गत आ गया।

इस शहर में उत्तर के मुस्लिम शासकों का आगमन पहली बार तब हुआ जब यहां के शासक को मोहम्मद बिन तुगलक ने युद्ध में पराजित कर दिया। इतिहासकारों के अनुसार इस शहर का पुराना नाम भाग्यमति था। यह शहर भारत के इतिहास में कितना महत्वपूर्ण है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यह शहर निजाम के अधिपत्य में आता था जी हां वही  निजाम  जिसे दुनिया में आज तक  के सबसे अमीर आदमियों में से एक माना जाता है। मुगल बादशाह शाहजहां ने औरंगजेब को दक्कन के इलाके में हैदराबाद पहुंचाया था वह चाहता था कि औरंगजेब दिल्ली से दूर रहे।

औरंगजेब के लिए हैदराबाद इतना महत्वपूर्ण था कि उसने यहां की सेना लेकर जिसमें  ज्यादातर यही के लोग थे, दिल्ली पर हमला कर दिया और मुगल बादशाह बन बैठा । औरंगजेब और हैदराबाद की कहानी यहीं नहीं खत्म होती है ऐसा माना जाता है कि औरंगजेब ने अपने जीवन के अंतिम 20 साल भी इसी इलाके के आसपास युद्ध लड़ते बिताये ।

पर्यटन की दृष्टि से हैदराबाद

हैदराबाद ऐतिहासिक महत्व की इमारतों से भरा पड़ा है। हैदराबाद आने वालों का सबसे पहला पड़ाव होता है हैदराबाद का मशहूर चारमीनार। हैदराबाद से थोड़ा ही बाहर निकलेंगे तो आपको विश्व प्रसिद्ध गोलकोंडा किला मिलेगा।

मक्का मस्जिद एवं सलार जंग म्यूजियम में आपको हैदराबाद का ऐतिहासिक वैभव देखने को मिलेगा। इनके अलावा कुतुब शाही , हुसैन सागर झील, बिरला मंदिर, रामोजी सिटी आदि कई स्थान हैं जो पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं।

हम उम्मीद करते हैं कि अब आपको इस सवाल का जवाब मिल गया होगा कि तेलंगाना का सबसे बड़ा शहर कौन सा है population के आधार पर ? इसके साथ ही आपको इस सवाल का जवाब भी मिल गया होगा कि तेलंगाना का सबसे बड़ा शहर कौन सा है  क्षेत्रफल के आधार पर ?

Leave a Reply