उत्तराखंड का सबसे बड़ा जिला कौन सा है ।

उत्तराखंड में 13 जिले हैं। उत्तराखंड के जिलों को उनके क्षेत्रफल और जनसंख्या के आधार पर बड़ा या छोटा कहा जा सकता है। इस लिहाज से उत्तराखंड का सबसे बड़ा जिला ये है :-

  1. क्षेत्रफल की दृष्टि से उत्तराखंड का सबसे बड़ा जिला उत्तरकाशी जिला है।
  2. जनसंख्या की दृष्टि से उत्तराखंड का सबसे बड़ा जिला हरद्वार है।

uttrakhand ka sabse bada jila naam

  1. 1. उत्तरकाशी जिला उत्तराखंड का सबसे ज्यादा क्षेत्रफल वाला जिला है जिसका कुल क्षेत्रफल 8016.00 वर्ग किलोमीटर (8016 sq. Km.) है। उत्तरकाशी, उत्तराखंड राज्य के उत्तर-पश्चिमी भाग में स्थित है। उत्तरकाशी जिले के उत्तर में हिमाचल प्रदेश और तिब्बत तथा पूरब में चमोली जिला स्थित है। प्रशासन की सुविधा के लिए उत्तरकाशी जिले को छह तहसीलों भटवारी, डूंडा, चिन्यालीसौड़, राजगढ़ी, पुरौला और मोरी में विभाजित किया गया है। समुचित विकास के लिए उत्तरकाशी जिले को छह विकास खंडों में बांटा गया है। 2011 की जनगणना के अनुसार उत्तरकाशी जिले में 707 गाँव स्थित थे। उत्तरकाशी जिले का निर्माण 24 फरवरी, 1960 को तत्कालीन टिहरी गढ़वाल जिले के रवाई तहसील के रवाई और उत्तरकाशी के परगनाओं से किया गया था। जैसा कि नाम से स्पष्ट है उत्तरकाशी प्राचीन काल से ही पवित्र भूमि मानी जाती है। इसे उत्तर की काशी के रूप में महत्ता प्राप्त है।
  • उत्तरकाशी जिला उत्तराखंड राज्य में जनसंख्या के मामले में दसवां सबसे बड़ा जिला है।
  • उत्तरकाशी उत्तराखंड राज्य के सबसे कम शहरी जनसंख्या वाला जिला है। उत्तरकाशी जिले में कुल आबादी की केवल 7.36 प्रतिशत जनसंख्या शहरी क्षेत्रों में रहती है।
  • उत्तरकाशी उत्तराखंड राज्य का सबसे कम जनसंख्या घनत्व वाला जिला है। इस जिले का जनसंख्या घनत्व केवल 41 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर हैं।
  1. हरद्वार जिला उत्तराखंड राज्य का सबसे अधिक आबादी वाला जिला है जिसकी 2011 की जनगणना के अनुसार कुल जनसंख्या 18,90,422 व्यक्तियों की रेकॉर्ड की गयी। हरद्वार की कुल आबादी में 1,005,295 व्यक्ति पुरुष और 885,127 महिलाएं शामिल हैं। हरद्वार के बाद उत्तराखंड का दूसरा सबसे अधिक जनसंख्या वाला जिला देहरादून है जिसकी 2011 में कुल आबादी 16,96,694 थी। 2011 की जनगणना के मुताबिक हरद्वार जिले का जनसंख्या घनत्व 801 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी था। यह उत्तराखंड राज्य के औसत का लगभग चार गुना है। हरद्वार अर्थात देवताओं का प्रवेश द्वार गंगा नदी के तट पर स्थित है और प्राचीन काल से ही हिंदुओं का प्रसिद्ध तीर्थ रहा है। पूरे भारत वर्ष से साधक और श्रद्धालु हरद्वार में ध्यान साधना के लिए जाते हैं और यह विश्व भर में कुम्भ मेले के लिए विख्यात है। हरद्वार का पुराणों में मायापुरी के रूप में उल्लेख किया गया है। एक अलग जिले के रूप में हरद्वार 1988 में अस्तित्व में आया था।
  • हरद्वार उत्तराखंड के उच्च शहरीकृत जिलों में से एक है। इस जिले की 36.66 प्रतिशत से अधिक आबादी शहरों में निवास करती है।
  • हरद्वार जिले की 2001-2011 दशकीय जनसंख्या वृद्धि दर (30.63 प्रतिशत), उत्तराखंड राज्य की वृद्धि दर ( 18.81 प्रतिशत) से अधिक थी।
  • हरद्वार जिला साक्षरता (73.43 प्रतिशत) में उत्तराखंड के जिलों में 12 वें स्थान पर है। यह उत्तराखंड की औसत (78.2 प्रतिशत) साक्षरता से कम है।

Read

Leave a Reply