उत्तराखंड में कितने मण्डल हैं Number of Divisions In Uttarakhand

उत्तराखंड वर्ष 2000 में उतर प्रदेश से अलग एक नए राज्य के रूप में स्थापित किया गया था। तब से लेकर अब तक उत्तराखंड के जिलों और उत्तररखंड के प्रशासनिक मंडलों की जानकारी के बारे में हमेशा पूछा जाता है। उत्तराखंड को प्रशासनिक सुविधा के लिए कई जिलों और मंडलों में बांटा गया है। उत्तराखंड के मंडलों का यह विभाजन पिछली दो जनगणनाओं, 2001 और 2011 की जनगणना, में एक समान बना हुआ है और इसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है। आइये जानते हैं कि उतराखंड में कितने मण्डल हैं उन मंडलों में कितने जिले हैं?

uttrakhand me kitne mandal hai

उत्तराखंड में कितने मण्डल हैं ? (Administrative Divisions of Uttarakhand)

उत्तराखंड दो प्रशासनिक मंडलों में विभाजित है:-

  1. गढ़वाल मण्डल
  2. कुमाऊं मण्डल

सन 2000 में उत्तराखंड राज्य के गठन के बाद से ही उत्तराखंड में यही दो मण्डल बने हुए हैं। सन 2001 की जनगणना और 2011 की जनगणना दोनों में उत्तराखंड में कुल मिलकर 13 जिले थे जो कि 2 मंडलों में विभाजित किए गए थे।

गढ़वाल मण्डल:

गढ़वाल मण्डल में 7 जिले आते हैं-

  • उत्तरकाशी,
  • देहरादून,
  • हरिद्वार,
  • पौड़ी गढ़वाल,
  • रुद्रप्रयाग,
  • टिहरी गढ़वाल,
  • चमोली

गढ़वाल मण्डल उत्तराखंड के उत्तर-पश्चिमी भाग में स्थित है। क्षेत्रफल की दृष्टि से भी गढ़वाल मण्डल उत्तराखंड का सबसे बड़ा मण्डल है। उत्तराखंड में मण्डल के प्रशासन के लिए उत्तर प्रदेश की ही तरह एक मंडलायुक्त ( Divisional Commissioner) की नियुक्ति की जाती है जो भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) का अधिकारी होता है। गढ़वाल मण्डल का लगभग पूरा क्षेत्र पहाड़ी क्षेत्र है जो हिमालय की ऊंची चोटियों से भरा हुआ है। भारत का दूसरा सबसे ऊंचा पर्वत शिखर नन्दा देवी ( Nanda Devi) गढ़वाल मण्डल में ही मौजूद है। गढ़वाल मण्डल का मुख्यालय पौड़ी में स्थित है। 2011 की जनगणना के अनुसार गढ़वाल मण्डल की कुल जनसंख्या 58,57,294 थी।

कुमाऊं मण्डल

कुमाऊं मण्डल में 6 जिले आते हैं-

  • अल्मोड़ा,
  • बागेश्वर,
  • चंपावत,
  • नैनीताल,
  • पिथौरागढ़,
  • उधमसिंह नगर

कुमाऊं मण्डल का मुख्यालय नैनीताल में स्थित है। इसके अलावा उत्तराखंड राज्य का उच्च न्यायालय भी कुमाऊं मण्डल के नैनीताल में ही स्थित है। ऐतिहासिक रूप से ऐसा माना जाता है कि कुमाऊं शब्द कि उत्पत्ति “कूर्मांचल” से हुई है। यह शब्द भगवान विष्णु के कूर्मावतार के नाम पर पड़ा है। कुमाऊं मण्डल का कुल क्षेत्रफल 21034 वर्ग किलोमीटर है।

Read also :-

Leave a Reply